जम्मू-कश्मीर में 3 दिन में हुई तीसरी हत्या, आतंकियों ने पंजाब के फल व्यापारी को बनाया निशाना

0
92

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने और सुरक्षाबलों की कार्रवाई से आतंकी बौखलाए हैं. आतंकी बाहरी लोगों को निशाना बना रहे हैं. 14 अक्टूबर से लेकर 16 अक्टूबर तक आतंकियों ने इस तरह की तीन वारदातों को अंजाम दिया. बुधवार को शोपियां में आतंकियों ने एक सेब व्यपारी की गोली मारकर हत्या कर दी. वहीं पुलवामा में आतंकियों ने छत्तीसगढ़ के एक प्रवासी मजदूर की गोली मारकर हत्या कर दी. इससे पहले 14 अक्टूबर को शोपियां में राजस्थान के ट्रक ड्राइवर को दो आतंकवादियों ने गोली मार दी थी.

कारोबारी की हत्या
जम्मू-कश्मीर के शोपियां में आतंकियों ने 2 व्यापारियों को गोली मारी. इसमें एक की मौत हो गई और एक गंभीर रूप से जख्मी हो गया. मृतक की पहचान चरणजीत सिंह के रूप में हुई है, जो पंजाब के फाजिल्का के रहने वाले थे. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर कहा, ”शोपियां में आतंकवादियों द्वारा मारे गए चरणजीत सिंह के शव को उनके पैतृक गांव फाजिल्का लाने के लिए मेरी सरकार जम्मू-कश्मीर के अधिकारियों के संपर्क में है. पाकिस्तानी आतंकवादियों को नृशंस हमलों को जारी रखने की अनुमति नहीं दी जा सकती है. भारत सरकार कड़ी कार्रवाई करे.”

मजदूर की हत्या
आतंकवादियों ने दक्षिण कश्मीर के आतंकवाद प्रभावित पुलवामा में छत्तीसगढ़ के एक प्रवासी मजदूर की गोली मारकर हत्या कर दी. ईंट-भट्ठे में मजदूरी करने वाले सेठी कुमार सागर छत्तीसगढ़ के बेसोली इलाके के रहने वाले थे. सागर जब एक अन्य नागरिक के साथ टहल रहे थे तभी काकपोरा रेलवे स्टेशन के पास निहामा इलाके में आतंकवादियों ने उन्हें गोली मार दी. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मजदूर के परिवार को 4 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है.

ट्रक ड्राइवर की हत्या
सोमवार को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के शिरमाल गांव में राजस्थान के ट्रक ड्राइवर को दो आतंकवादियों ने गोली मार दी थी. आतंकियों ने सेब की खेती करने वाले किसान के साथ भी मारपीट की थी. तब जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा था कि घाटी में फलों से भरे ट्रकों की आवाजाही शुरू होने से हताश होकर आतंकवादियों ने शीरमाल गांव में हमला किया था. मृतक की पहचान शरीफ खान के रूप में की गई.