कोरोना से जीतकर आयी सिंगर कनिका कपूर अब प्लाज़्मा डोनेट कर बचाएंगी दूसरों की जान

0
119

लखनऊ :देश में कोरोना संकट अभी भी मंडरा रहा है जिससे मरीजों को बचाने के लिए अनेकों प्रयास किये जा रहे है उसी में से एक प्रयास है कोरोना के हराकर आये लोगों के प्लाज़्मा का इस्तेमाल कोरोना मरीजों पर करने का. जिसके चलते अब सिंगर कनिका कपूर भी प्लाज्मा डोनेट करने का फैसला लिया है . विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक लखनऊ के संजय गांधी पीजीआई की टीम कनिका कपूर का प्लाज्मा लेगी. बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर पिछले दिनों कोरोना वायरस संक्रमण का शिकार हो गई थीं. उन्होंने काफी दिनों तक पीजीआई में इलाज कराया है. बता दें लखनऊ के केजीएमयू में कोरोना के खिलाफ प्लाज्मा थेरेपी पर काम शुरू हो चुका है. इसके तहत वेंटिलेटर पर रखे गए एक मरीज को प्लाज्मा की पहली डोज दी गई है, जिसके बाद उसकी तबीयत में काफी सुधार देखने को मिला है.

उधर कनिका कपूर के खिलाफ लखनऊ में केस भी दर्ज किया था, जिसमें उनका बयान दर्ज करने के लिए लखनऊ पुलिस ने उनके घर पर नोटिस चस्पा किया है. पुलिस के मुताबिक, कनिका कपूर को थाने आकर अपना लिखित बयान देना होगा. इसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी. दरअसल, कनिका के खिलाफ लखनऊ के सरोजिनी नगर थाने में आईपीसी की धारा 188, 269 और 270 के तहत एफआईआर दर्ज है. ऐसे में पुलिस की टीम उनका बयान दर्ज करेगी.

इससे पहले रविवार को कनिका कपूर ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर किया है, जिसमें उन्होंने खुद पर लगे आरोपों पर चुप्पी तोड़ी. कनिका कपूर ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा है, ‘मुझे पता है कि मेरे बारे में कई कहानियां बनाई गई हैं. इनमें से ज्यादातर इसलिए बढ़ीं क्योंकि मैं अब तक चुप थी. लेकिन, मैं इसलिए चुप नहीं थी, क्योंकि मैं गलत थी. मैं बस इस बात का इंतजार कर रही थी कि लोगों तक सच्चाई खुद-ब-खुद पहुंच जाए. मुझे पता है कि लोगों तक गलत जानकारी पहुंचाई गई है. मैं अपने परिजनों, दोस्तों और सपोर्टर्स को धन्यवाद कहना चाहती हूं. जो इस दौर में भी मेरे साथ खड़े रहे और मुझे समझा.’

बता दें कि कनिका कपूर 9 मार्च को लंदन से वापस आईं थीं, जिसके बाद 20 मार्च को उन्होंने खुद के कोरोना पॉजिटिव होने की बात सार्वजनिक की थी. इसके बाद उन पर इस खबर छुपाने और लापरवाही बरतने के आरोप लगने लगे थे. हालांकि, सिंगर का कहना है कि जब वह भारत वापस आईं थीं, तो देश में सेल्फ आइसोलेशन जैसी कोई व्यवस्था लागू नहीं की गई थी. इसके बाद लगातार चार कोरोना टेस्ट में वो संक्रमण से पॉजिटिव पाई गई थीं.