शिवसेना बोली, ‘थैली’ की भाषा बोल रहे कुछ लोग

0
47

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए अब बेहद कम वक्त रह गया है. इधर न तो शिवसेना और न ही बीजेपी की ओर से सुलह के कोई आसार दिख रहे हैं. 56 सीटें जीतने वाली शिवसेना ने एक बार फिर कहा है कि ये जनता की मांग है कि महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री शिवसेना का ही होना चाहिए. अपने विधायकों के टूटने का डर झेल रही शिवसेना अब आक्रामक हो गई है. पार्टी के मुख पत्र सामना में शिवसेना ने कहा है कि कुछ लोग नये विधायकों से संपर्क कर थैली की भाषा बोल रहे हैं. शिवसेना ने कहा है कि राज्य में मूल्य विहीन राजनीति वो नहीं चलने देगी इसके लिए शिवसैनिक तलवार लेकर खड़े हैं.

राज्यपाल से मिलेंगे बीजेपी नेता
मुंबई में आज का दिन राजनीतिक घटनाक्रमों से भरा रहने वाला है. बीजेपी के नेता आज राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करेंगे. बीजेपी नेता राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा पेश कर सकते हैं. बुधवार को बीजेपी विधायक सुधीर मुनगंटीवार ने कहा था कि जल्दी ही लोगों को खुशखबरी सुनने को मिलेगी. बीजेपी ने खुशखबरी सुनाने की बात तो कह दी, लेकिन आंकड़ों का ब्यौरा नहीं दिया. बुधवार को बीजेपी कोर कमिटी की बैठक के बाद राज्य के वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने कहा था कि चंद्रकांत पाटील के नेतृत्व में बीजेपी का एक प्रतिनिधिमंडल सीएम देवेंद्र फड़णवीस द्वारा मंजूर संदेश के साथ राज्यपाल से मुलाकात करेगा.”

दोपहर 12 बजे शिवसेना विधायकों की बैठक
बीजेपी राज्यपाल से मिलने जा रही है तो शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने दोपहर 12 बजे पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई है. शिवसेना को अपने विधायकों के टूटने का डर सता रहा है. इस बैठक के जरिए शिवसेना एकजुटता दिखाने की कोशिश करेगी. पार्टी विधायकों के साथ बैठक के बाद शिवसेना अपने विधायकों को फाइव स्टार होटल में ठहरा सकती है.

‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं कुछ लोग
विधायकों के टूटने का डर झेल रही शिवसेना ने बिना नाम लिये बीजेपी पर हमला बोला है. शिवसेना ने अपना मुख पत्र सामना में लिखा है कि कुछ लोग नए विधायकों से संपर्क कर ‘थैली’ की भाषा बोल रहे हैं और ऐसी शिकायतें बढ़ रही है. शिवसेना ने कहा है कि पिछली सत्ता का उपयोग अगली सत्ता के लिए ‘थैलियां’ बांटने में हो रहा है. पर किसानों के हाथ कोई दमड़ी भी रखने को तैयार नहीं है. इसीलिए महाराष्ट्र के किसानों को शिवसेना की सत्ता चाहिए. सामना में लिखा गया है कि महाराष्ट्र की प्रतिष्ठा धूमिल करके यहां पर कोई राज नहीं कर सकता. इसके लिए शिवसेना वहां तलवार लेकर खड़ी है.