रूस ने अफ्रीका में सजाई हथियारों की मंडी

0
168

नई दिल्ली : रूस की सरकारी हथियार निर्यातक कंपनी रोसोबोरोनएक्पोर्ट ने अप्रैल में घोषणा की कि उसने पहली बार सब सहारा अफ्रीका के एक देश के साथ असॉल्ट बोट्स की आपूर्ति का एक कॉन्ट्रैक्ट किया है. यह बीते 20 साल में पहला मौका है जब रूस इस इलाके में रूस निर्मित कोई नौसैनिक साजोसामान निर्यात करने जा रहा है.  अंतरराष्ट्रीय मीडिया में इस खबर पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया, लेकिन यह नई डील एक सिलसिले की कड़ी है. रूस अफ्रीका में अपने पैर पसार रहा है और इस महाद्वीप में अपने हथियारों के लिए बड़ा बाजार तैयार कर रहा है. सोवियत संघ के जमाने में रूस अफ्रीका में हथियारों का बड़ा आपूर्तिकर्ता था. लेकिन सोवियत संघ के विघटन के बाद उसका असर वहां घटता चला गया. लेकिन 2000 आते आते रूस ने वहां अपना दखल बढ़ाना शुरू कर दिया और बीते दो दशक में वह अफ्रीका में हथियारों की आपूर्ति करने वाला सबसे बड़ा देश बन गया है.

दुनिया भर में हथियारों पर नजर रखने वाली स्टॉकहोम स्थित संस्था सिपरी का कहना है कि इस समय अफ्रीका में बेचे जा रहे 49 प्रतिशत हथियार रूस से ही आ रहे हैं. वर्ष 2000 से अफ्रीका को होने वाले रूसी हथियारों के निर्यात में बड़ी वृद्धि देखी गई है. इस वृद्धि की वजह खासतौर से अल्जीरिया में रूसी हथियारों की सप्लाई है.
अभी तक अफ्रीका में रूसी हथियारों का सबसे बड़ा खरीददार अल्जीरिया है. इसके बाद मिस्र, सूडान और अंगोला का नंबर आता है. सिपरी में हथियार और सैन्य खर्च कार्यक्रम से जुड़े रिसर्चर आलेक्सांडर कुईमोवा कहते हैं कि 2000 की शुरुआत में रूसी हथियार खरीदने वाले अफ्रीकी देशों की संख्या 16 थी जो 2010 और 2019 के बीच बढ़ कर 21 हो गई.

रूस ने 2015 में तेल संसाधनों से मालामाल अंगोला को हथियार, खासतौर से लड़ाकू विमन और कॉम्बैट हेलीकॉप्टर बेचने शुरू किए. अंगोला के साथ रूस के संबंध भी बहुत अच्छे रहे हैं. रूस ने 1996 में अंगोला के 5 अरब डॉलर के कर्ज में से 70 फीसदी राशि 4,56 अरब डॉलर को माफ कर दिया था. ऐसे में अंगोला का रूसी हथियार खरीदना स्वाभाविक है. अंगोला अफ्रीका में अल्जीरिया और मिस्र के बाद रूसी हथियारों का तीसरा बड़ा खरीददार है. बुल्गारिया, बेलारूस, इटली और चीन से भी अंगोला हथियार खरीदता है, लेकिन उनकी हिस्सेदारी बहुत कम है. अल्जीरिया में भी कमोबेश यही हालात हैं. सोवियत संघ के जमाने से वह रूसी हथियार खरीदता रहा है. रूस ने 2006 में अल्जीरिया पर बकाया 5.7 अरब डॉलर के कर्ज को पूरी तरह माफ कर दिया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here