रामानंद सागर की रामायण के राम उर्फ अरुण गोविल ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत

0
73

नई दिल्ली। 1987 में आयी रामानंद सागर के सुपरहिट धार्मिक सीरियल रामायण के घर-घर में राम के नाम से पहचाने गये अरुण गोविल ने अयोध्या में राम मंदिर मसले पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा आज दिये गये फैसले का स्वागत करते हुए इस पर खुशी जतायी.

महाराष्ट्र के लोणावाला इलाके में इन दिनों छुट्टियां मना रहे अरुण गोविल ने फोन पर एबीपी न्यूज से खास बातचीत करते हुए कहा, ये फैसला अच्छा है और सभी को इसका स्वागत करना जाना चाहिए. ये मामला एक लम्बे अर्से से लम्बित था, ऐसे में अब इसका नतीजा आना एक बेहद अच्छी खबर है. धर्म, जाति, प्रदेश इन सबसे ऊपर उठकर इस फैसले को सभी को मान्य करना चाहिए.

अरुण गोविल ने कहा, ये मसला सालों से से हमें धार्मिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्तर पर दुखी कर रहा था. ऐसे में अब जब इसका हल निकल गया है, तो इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है भला

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोर्ट इस तरह के फैसले किसी की आस्था के आधार पर नहीं दिया करते हैं और न ही किसी को खुश करने या फिर नाराज करने के लिए ऐसे फैसले दिये जाते हैं. उन्होंने कहा कि ऐसे फैसले पुख्ता सबूतों के आधार पर ही दिये जाते हैं, जो कि इस मामले में भी हुआ है.

राम मंदिर के फैसले के बाद दोनों समुदाय द्वारा दिखाए गये संयम के बारे में पूछे गये एबीपी न्यूज के सवाल पर अरुण गोविल ने कहा, जिस तरह का संयम दोनों समुदाय के लोगों ने दिखाया है, निश्चित ही कहना होगा कि दोनों समुदाय के लोग बधाई के पात्र हैं. इससे साबित होता है कि हम भारतीय लोग अब मानसिक रूप से परिपक्व हो गये हैं.