प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी – अर्व्यवस्था को पटरी पर लाना हमारी पहली प्राथमिकता

0
169

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के वार्षिक सत्र को संबोधित किया। CII की स्थापना 1895 में हुई थी और यह संगठन 125 साल पूरे कर चुका है। पीएम मोदी ने इस अवसर पर बताया कि कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सरकार की पूरी योजना क्या है। पीएम ने कहा, ये भी इंसान की सबसे बड़ी ताकत होती है कि वो हर मुश्किल से बाहर निकलने का रास्ता बना ही लेता है। आज भी हमें जहां एक तरफ इस वायरस से लड़ने के लिए सख्त कदम उठाने हैं वहीं दूसरी तरफ इकोनॉमी का भी ध्यान रखना है। हमें एक तरफ देशवासियों का जीवन भी बचाना है तो दूसरी तरफ देश की अर्थव्यवस्था को भी स्टैब्लाइज़ करना है, स्पीड अप करना है। इस सिचुएशन में आपने “Getting Growth Back” की बात शुरू की है और निश्चित तौर पर इसके लिए आप सभी, भारतीय उद्योग जगत के लोग बधाई के पात्र हैं: पीएम बल्कि मैं तो Getting Growth Back से आगे बढ़कर ये भी कहूंगा कि Yes ! We will definitely get our growth back. आप लोगों में से कुछ लोग सोच सकते हैं कि संकट की इस घड़ी में, मैं इतने कॉन्फिडेंस से ये कैसे बोल सकता हूं? मेरे इस कॉन्फिडेंस के कई कारण है।

मुझे भारत की कैपेबिलिटीज और क्राइसिस मैनेजमेंट पर भरोसा है। मुझे भारत के टैलेंट और टेक्नोलॉजी पर भरोसा है। मुझे भारत के इनोवेशन और इंटेल्लेक्ट पर भरोसा है। मुझे भारत के फार्मर्स , MSME’s, Entrepreneurs पर भरोसा है। कोरोना ने हमारी स्पीड जितनी भी धीमी की हो, लेकिन आज देश की सबसे बड़ी सच्चाई यही है कि भारत, लॉकडाउन को पीछे छोड़कर अनलॉक फेज वन में एंटर कर चुका है। अनलॉक फेज वन में इकॉनमी का बहुत बड़ा हिस्सा खुल चुका है।

आज ये सब हम इसलिए कर पा रहे हैं, क्योंकि जब दुनिया में कोरोना वायरस पैर फैला रहा था, तो भारत ने सही समय पर, सही तरीके से सही कदम उठाए। दुनिया के तमाम देशों से तुलना करें तो आज हमें पता चलता है कि भारत में lockdown का कितना व्यापक प्रभाव रहा है। कोरोना के खिलाफ इकॉनमी को फिर से मजबूत करना, हमारी हाईएस्ट प्रायरटीस में से एक है। इसके लिए सरकार जो डिसिशन अभी तुरंत लिए जाने जरूरी हैं, वो ले रही है। और साथ में ऐसे भी फैसले लिए गए हैं जो लॉन्ग रन में देश की मदद करेंगे।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना ने गरीबों को तुरंत लाभ देने में बहुत मदद की है। इस योजना के तहत करीब 74 करोड़ Beneficiaries तक राशन पहुंचाया जा चुका है। प्रवासी श्रमिकों के लिए भी फ्री राशन पहुंचाया जा रहा है। महिलाएं हों, दिव्यांग हों, बुजुर्ग हों, श्रमिक हों, हर किसी को इससे लाभ मिला है। लॉकडाउन के दौरान सरकार ने गरीबों को 8 करोड़ से ज्यादा गैस सिलेंडर डिलिवर किए हैं- वो भी मुफ्त।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here