पकिस्तान – प्रधानमंत्री इमरान खान ने लॉक डाउन खोलने के फैसले को ठहराया सही , कहा – नहीं खोला लॉकडाउन तो होगा बहुत ही ज्यादा आर्थिक नुक्सान

0
301

पकिस्तान : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कोरोना वायरस की वजह से बढ़ते संक्रमण और मौतों के बावजूद लॉकडाउन खत्म करने के अपनी सरकार के फैसले को सही ठहराया। उन्होंने देश के आर्थिक नुकसान का हवाला देते हुए लोगों से आग्रह किया कि वे इस वायरस के साथ जीना सीख लें। पाकिस्तान ने मुख्य रूप से एक आर्थिक मंदी को रोकने के लिए लॉकडाउन के लगाए गए लगभग सभी उपायों को हटा लिया है। देश पर्यटन के लिए खुलेगा लेकिन थिएटर, सिनेमाघर और स्कूल बंद रहेंगे। 22 करोड़ की आबादी वाले देश में 12 हजार 600 कोरोना वायरस संक्रमण के मामले हैं और कुल 1543 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों का आंकड़ा रोजाना 80 तक बढ़ गया है। इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान के आर्थिक नुकसान में निर्यात में गिरावट, राजस्व में 30 फीसदी की कमी और आने वाले महीनों में गिरावट की आशंका थी। राजकोषीय घाटे के 9.4 फीसदी तक बढ़ने और राजस्व की कमी के साथ, पाकिस्तान भुगतान संकट का सामना कर रहा है।

एक टीवी संबोधन में उन्होंने कहा कि देश ने लॉकडाउन के दौरान हुए नुकसान की भरपाई नहीं कर सकता है, जैसा कई अन्य देश कर चुके हैं। इमरान खान ने गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले पांच करोड़ लोगों और 2.5 करोड़ दिहाड़ी मजदूरों का हवाला दिया। इमरान खान ने कहा कि उनकी सरकार ने गरीबों को नकदी बांटी, जो इतने बड़े पैमाने पर जारी रखना देश के लिए संभव नहीं था।

पीएम ने कहा कि लॉक डाउन की वजह से देश में करीब 13 करोड़ से लेकर 15 करोड़ लोगों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। इमरान खान ने कहा कि हमारी स्थितियां इस बात की अनुमति नहीं देती हैं कि हम उन्हें पैसे देते रहें, हम उन्हें कब तक पैसा दे सकते हैं। उन्होंने लोगों से जिम्मेदारी से काम करने की गुजारिश की है, लेकिन अधिक संक्रमण और मौतों को टाला नहीं जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here