मीरपुर और सियालकोट में पाकिस्तान ने खोले आतंकी ट्रेनिंग कैंप

0
37

नई दिल्ली। पाकिस्तान लगातार एलओसी और बॉर्डर के पास सैनिकों की तैनाती बढ़ाने के साथ आतंकवादियों की घुसपैठ बढ़ाने की कोशिशों में लगा है. इंटेलीजेंस रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने मीरपुर और सियालकोट में लश्कर-ए-तैयबा के लिए फिर एक्टिव ट्रेनिंग कैम्प खोल दिए. पानी के बीच रह कर लड़ी जाने वाली लड़ाई की ट्रेनिंग के लिए ये कैम्प और पाकिस्तानी सेना ने अंतर्राष्ट्रीय दबाव के चलते पहले बंद कर दिए थे.
इंडिया टुडे टीवी के पास मौजूद इंटेलीजेंस ब्यूरो के नोट से खुलासा होता है, कि ये कैम्प मांगला और हेड मराल में स्थित है. इन कैम्पों को जमात उद दावाध्लश्कर ए तैयबा के ‘नंबर दो’ ताल्हा सईद ने दोबारा शुरू किया है. ताल्हा लश्कर प्रमुख हाफिज सईद का बेटा है.
इंटेली इनपुट्स से जानकारी मिली है कि लश्कर ने आंतकियों की भर्ती के लिए खुद की मुहिम शुरू की है. ये भर्ती स्वात घाटी के पास पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा से सटे कबिलाई इलाकों, पेशावर, क्वेटा और इलाका-ए-घैर में की जा रही है.
आईएसआई और आतंकी संगठनों के बीच हाल के दिनों में कई बैठकें हुई हैं. इनमें पीओके और पाकिस्तान में सक्रिय आतंकी संगठनों के कमांडरों ने हिस्सा लिया. इन बैठकों में ‘कश्मीरी जिहाद’ के कंट्रोल रूम पीओके और पाक-अफगान सीमा पर बनाने का फैसला किया गया. साथ ही आतंकियों की नई भर्ती पर जोर दिया गया.
इंटेलीजेंस नोट ये भी बताता है कि पाकिस्तान किस तरह अपने संसाधनों को पाक-अफगान सीमा से सटे कबिलाई इलाकों से हटा कर फोकस जम्मू-कश्मीर की ओर कर रहा है. इसके अलावा एलओसी के पास पाकिस्तानी सेना ने अपनी गतिविधियां बढ़ा दी हैं. पाकिस्तान की ओर से 5 पीओके ब्रिगेड (मुजफ्फराबाद) ब्रिगेड एरिया, मिनीमार्ग, कामरी, डोमेल और गुलतारी में अतिरिक्त सैनिकों को तैनात किया जा रहा है.
आईएसआई के निर्देश पर आर्मी यूनिट्स के बीच आतंकियों के लिए बंकर बनाए जा रहे हैं. ये बंकर ‘10 बलूच’ की ओर से तैयार किए जा रहे हैं. आईएसआई ने ‘कूरियर एंड गाइड’ को आतंकियों के लिए द्वार, नीरू, बराउब, चाकोली में रेकी, सूचना एकत्र करने के अलावा नक्शे, स्केच और घुसपैठ के रूट तैयार करने के भी निर्देश दिए हैं.
इंटेलीजेंस रिपोर्ट्स बताती हैं कि एलओसी और सरहद के उस पार कम से कम 13 जगह पर आतंकी ग्रुपों की बड़ी हरकत नोटिस की गई हैं.