भारत में वीट्रांसफर ब्लॉक करने का आदेश

0
152

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के चलते बीते कुछ महीनों से भारत में भी लाखों लोग घर से ही काम कर रहे हैं. वर्क फ्रॉम होम के बीच ही भारत सरकार ने वीट्रांसफर पर प्रतिबंध लगाया है. प्रतिबंध के साथ ही भारत के कई इलाकों में मशहूर फाइल ट्रांसफर वेबसाइट वीट्रांसफर चलना बंद हो गया है. हालांकि कुछ जगहों पर प्रतिबंध के बावजूद बेवसाइट काम कर रही है. वीट्रांसफर का इस्तेमाल आम तौर पर ग्राफिक्स, तस्वीरें और वीडियो शेयर करने के लिए किया जाता है. प्रतिबंध 18 मई को जारी एक आदेश के बाद लगाया गया है. आदेश दूरसंचार विभाग द्वारा जारी किया गया. समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने इस आदेश की समीक्षा की है. आदेश में प्रतिबंध लगाने का कोई खास कारण नहीं बताया गया है. ऑर्डर में इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडरों को लाइसेंस देने की शर्तों में से एक शर्त का जिक्र है.

शर्त के मुताबिक सारे लाइसेंस धारकों को “राष्ट्र सुरक्षा या जनहित को मद्देनजर” वेबसाइटों को ब्लॉक करना होगा. भारत में फिलहाल 800 से ज्यादा वेबसाइटें प्रतिबंधित हैं. एक मिनट में दुनिया भर में 18 करोड़ निजी और औपचारिक ईमेल भेजे जाते हैं. जीमेल के अलावा आउटलुक, याहू और एओएल भी काफी लोकप्रिय हैं. भारतीय दूरसंचार विभाग के आदेश के बाद नीदरलैंड्स की राजधानी एम्सटर्डम से चलने वाली कंपनी वीट्रांसफर ने बयान भी जारी किया है. एक ब्लॉग पोस्ट में कंपनी ने कहा, “फिलहाल इस वक्त, भारत में वीट्रांसफर ब्लॉक और एनएवेलेबल लगता है.” ब्लॉग पोस्ट में कंपनी ने कहा, “हम इस प्रतिबंध के पीछे के कारण समझने की और इसे जल्द पलटने की भरसक कोशिशें भी कर रहे हैं.”

2009 में लॉन्च हुई कंपनी वीट्रांसफर, आम लोगों को एक बार में 2जीबी डाटा मुफ्त में शेयर करने की सुविधा देती है. व्हट्सऐप के उलट वीट्रांसफर में फाइल शेयर करने पर ऑडियो-वीडियो क्वालिटी डाउनग्रेड नहीं होती है. पैसा देकर इसकी सेवाएं लेने वाले यूजर्स एक बार में 20 जीबी डाटा दुनिया भर में ट्रांसफर कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here