निर्मला सीतारमण – किसानों के लिए 86,600 करोड़ रूपए के लोन की मंजूरी

0
119

नई दिल्ली : वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की विस्तृत जानकारी देने के लिये आज भी प्रेस कांफेंस कर रही है. गौरतलब है कि बुधवार को भी वित्तमंत्री सीतारमण ने प्रेस कांफे्रंस की थी, जिसमें उन्होंने खास तौर पर एमएसएमई के लिए कुल 6 एलान किए गए. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि आज की कांफ्रेंस प्रवासी श्रमिकों, सड़क के किनारे स्टॉल या रेहड़ी लगाने वालों, छोटे व्यापारियों, स्वरोजगार वालों और छोटे किसानों पर केंद्रित है.

उन्होंने बताया कि प्रवासी मजदूरों के लिए तीन फैसले लिए गए हैं. रेहड़ी पटरी वालों को राहत दी जा रही है.निमज़्ला सीतारमण ने कहा कि प्रवासी मजदूर, छोटे किसान, स्ट्रीट वेंडर आदि के लिए कुल 9 घोषणाएं की जा रही हैं. किसानों के लिए 86,600 करोड़ लोन की मंजूरी दी जा रही है. 25 लाख नए किसान क्रेडिट कार्ड बनाए जा रहे हैं. वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि किसानों के लिए इंटरेस्ट सबवेंशन स्कीम को बढ़ाकर 31 मई तक किया गया है. 25 लाख नए किसान क्रेडिट कार्ड जारी किए गए हैं. उन्होंने बताया कि अब तक 3 करोड़ किसानों ने 4.22 लाख करोड़ के कृषि ऋण पर तीन माह तक लोन मोरिटोरियम का लाभ उठाया है.

मार्च 2020 में नाबार्ड में सहकारी बैंकों और ग्रामीण बैंकों की मदद के लिए 29,500 करोड़ सहायता के लिए दिए गए. राज्यों को कृषि उत्पादों की खरीद के लिए मार्च 2020 से अब तक 6700 करोड़ रुपए की कार्यशील पूंजी दी गई है. शहरी गरीबों के लिए भी वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने एलान किए हैं. उन्होंने कहा कि राज्यों को राज्य आपदा प्रबंधन कोष से खर्च की इजाजत दी गई. केंद्र सरकार ने राज्यों को 11002 करोड़ रुपए एसडीआरएफ को मजबूत करने के लिए दिए गए.

इससे शेल्टर बनाए गए जिसमें तीन समय का भोजन उपलब्ध कराया गया. 12 हजार स्वयं सहायता समूह ने 3 करोड़ मास्क और 1.20 लाख लीटर सेनेटाइजर का उत्पादन किया गया. 15 मार्च के बाद से 7200 हजार नए स्वयं सहायता समूह बनाये गए.