टेंशन में नीरव मोदी, बीमारियां गिनाकर मांगी लंदन कोर्ट से बेल

0
52

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक धोखाधड़ी मामले के मुख्य आरोपी और देश के भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी ने बीमारियों का बहाना बनाकर लंदन कोर्ट में जमानत याचिका दायर की है. नीरव मोदी ने लंदन कोर्ट में याचिका दायर कर कहा है कि वह बेचैनी और डिप्रेशन से जूझ रहा है. इसलिए कोर्ट उसे जमानत पर रिहा करे.
नीरव मोदी अब कोर्ट से खुद को पीड़ित बता रहा है. इससे पहले 4 बार कोर्ट ने नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज की है. भारतीय एजेंसियों ने क्राउन प्रॉसिक्यूशन सर्विस से कहा था कि अगर नीरव मोदी को बाहर छोड़ा गया तो वह लंदन से भी भाग सकता है. नीरव मोदी की जमानत पर अगली सुनवाई 6 नवंबर को होगी.

जमानत के लिए बहाना

सूत्रों के मुताबिक ब्रिटेन में ऐसा कानून है, कि किसी भी केस में नई जमानत याचिका नए ग्राउंड के साथ फाइल की जाए तभी कोर्ट उसे स्वीकार करता है. जांच एजेंसी का दावा है कि जमानत लेने की हर कोशिश नाकाम होने के बाद अब नए ग्राउंड के साथ नीरव मोदी ने विक्टिम कार्ड खेला है.

नीरव मोदी को भारत वापस लाने के लिए भारतीय जांच एजेंसियां लगातार कोशिश कर रहे हैं. जांच एजेंसियां प्रत्यर्पण के जरिए नीरव मोदी को भारत वापस लाने के लिए प्रयास कर रहें हैं।

क्या है मामला?

नीरव मोदी वांड्सवर्थ जेल में बंद है. नीरव मोदी 13500 करोड़ रुपये के पीएनबी धोखाधड़ी मामले के संबंध में भारत में वांछित है. नीरव मोदी को 19 मार्च को होलबोर्न से गिरफ्तार किया गया था. इसके बाद से वह प्रत्यर्पण की कार्यवाही के खिलाफ केस लड़ रहा है.
नीरव मोदी और उसके मामा मेहुल चोकसी की जांच ईडी और केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) कर रहे हैं. घोटाले में नाम सामने आने के बाद से ही नीरव मोदी के खिलाफ जांच एजेंसिया कार्रवाई कर रही हैं. इस संबंध में उसकी कई संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं.