सिमलीपाल में सबसे ज्यादा 330 हाथी, एक साल 246 हाथियों की मौत

0
45

भुवनेश्वर: बीते तीन साल में ओडिशा में 246 हाथियों की विभिन्न कारणों से मौत हो गयी। यह जानकारी ओडिशा सरकार की तरफ से विधानसभा में एक प्रश्न के उत्तर में दी गयी।

राज्य सरकार के वन एवं पर्यावरण मंत्री विक्रम केसरी अरुख ने कहा कि वर्ष 2016-17 व 2018-19 के दौरान 246 हाथियों की मौतें हुई जिनकी वजह बिजली करंट लगने, बीमारी और रेल व सड़क दुर्घटनाओं व प्राकृतिक कारण हैं।

वन पर्यावरण मंत्री ने कहा कि 2017 में हुई हाथियों की गणना के अनुसार ओडिशा में 1,976 हाथी थे। इसमें सिमलीपाल में 330 हाथी, ढेंकानाल में 169, सतकोसिया में 147, अटगढ़ में 115 हाथी शामिल हैं। अन्य क्षेत्रों में भी हाथियों की उपस्थिति है। राज्य सरकार ने हाथियों की सुरक्षा को लेकर आवश्यक कदम उठाए हैं। इसके लिए मयूरभंज, महानदी और संबलपुर में प्रमुख रूप से हाथियों के माकूल माहौल दिया जा रहा है।

इसके अलावा हाथियों के संरक्षण के लिए उचित प्रबंधन भी किया जा रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि 14 एलीफैंट कॉरीडोर विकसित किए गए हैं। बिजली करंट से और ट्रेन दुर्घटनाओं के कारण हाथियों की मौतों के कारण पर काबू पाया जा रहा है।