कुमार संगकारा ने बताया की आखिर क्यों हुआ था 2011 वर्ल्ड कप में दो बार टॉस ?

0
203

नई दिल्ली : एमएस धोनी के नेतृत्व में भारतीय टीम ने 2 अप्रैल 2011 को मुंबई में श्रीलंका को हराकर वर्ल्ड कप खिताब हासिल किया था। टीम इंडिया ने 28 साल बाद दूसरी बार वर्ल्ड कप जीतते हुए इतिहास रचा था। इस फाइनल मुकाबले में दो बार टॉस किया गया था और ऐसी स्थिति क्यों बनी थी इसका खुलासा श्रीलंकाई कप्तान कुमार संगकारा ने किया।कुमार संगकारा ने कहा कि भारतीय कप्तान एमएस धोनी की वजह से दूसरी बार टॉस किया गया।

कुमार संगकारा ने रविचंद्रन आश्विन के साथ इंस्टाग्राम लाइव के दौरान उस वाकये को याद किया। वानखेडे स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भरा हुआ था। इतना ज्यादा शोर हो रहा था कि माही सुन ही नहीं पाए थे कि मैंने टॉस के दौरान क्या कहा था। माही ने पहली बार सिक्का उछालने के बाद मुझसे पूछा कि क्या आपने ‘टेल’ कहा और मैंने कहा कि नहीं मैंने ‘हेड’ कहा था। मैच रैफरी ने भी कहा कि मैंने टॉस जीत लिया है लेकिन धोनी ने कहा कि ऐसा नहीं है, आपने वो नहीं था। वहां भम्र की स्थिति पैदा हो गई तब माही ने कहा कि एक बार फिर से टॉस कर लेते हैं। दोबारा टॉस किया और इस बार भी ‘हेड’ आया और मैं टॉस जीत गया। कुमार संगकारा ने कहा, यदि धोनी टॉस जीतते तो भारत पहले बल्लेबाजी करता और मैच का परिणाम कुछ और हो सकता था।

कुमार संगकारा ने कहा कि श्रीलंका टीम को फाइनल में एंजेलो मैथ्यूज की कमी खली, जो चोट की वजह से उस मैच में नहीं खेल पाए थे। एंजेलो मैथ्यूज ने श्रीलंका को न्यूजीलैंड के खिलाफ जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। संगकारा ने कहा, मैथ्यूज के बाहर होने की वजह से हमें 6-5 के कॉम्बिनेशन के साथ मैदान में उतरना पड़ा था। यदि वे फिट होते तो हम 7-4 के कॉम्बिनेशन के साथ मैदान में उतरते। उनकी चोट की वजह से हमें इस महत्वपूर्ण मैच में टीम में बदलाव करना पड़ा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here