करतारपुर काॅरिडोर मामला- भारत और पाकिस्तान के बीच समझौते पर हुआ हस्ताक्षर

0
73

नई दिल्ली। दोनों देशों के अधिकारी जीरो प्वाइंट पर पहुंचे और वहां समझौते पर हस्ताक्षर किए। वहीं, दूसरी तरफ नौ नवंबर को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा इस कॉरिडोर का उद्घाटन किया जाएगा।

पाकिस्तान द्वारा श्रद्धालुओं से 20 डॉलर लेने के मसौदे पर असहमति

इससे पहले दोनों देशों के बीच बुधवार को इस समझौते पर घोषणा की जानी थी, लेकिन दोनों देशों के बीच तारीखों को लेकर सहमति नहीं बन पाई थी। अब आज 24 अक्तूबर को दोनों पक्षों ने मुलाकात की और समझौते पर हस्ताक्षर किए। वहीं भारत को अभी भी पाकिस्तान द्वारा श्रद्धालुओं से 20 डॉलर लेने के मसौदे पर असहमति है।

तीर्थयात्रियों की धार्मिक भावना को सम्मान करते हुए समझौते पर हस्ताक्षर

भारत द्वारा विरोध जताने के बाद भी पाकिस्तान श्रद्धालुओं से शुल्क लेगा। हालांकि भारत ने तीर्थयात्रियों की धार्मिक भावना का सम्मान करते हुए समझौते पर हस्ताक्षर करने का फैसला किया। श्रद्धालुओं का पहला जत्था 5 नवंबर और दूसरा जत्था 6 नवंबर को सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की जयंती पर भारत से रवाना होगा।

यह पवित्र स्थल सिखों के मन से जुड़ा धार्मिक स्थान हैं

करतारपुर कॉरिडोर सिखों के लिए सबसे पवित्र जगहों में से एक है। करतारपुर साहिब सिखों के प्रथम गुरु गुरुनानक देव जी का निवास स्थान था। गुरु नानक ने अपनी जिंदगी के आखिरी 17 साल 5 महीने 9 दिन यहीं गुजारे थे। उनका परिवार भी यहीं आकर बस गया था। गुरु नानक देव के माता-पिता का देहांत भी यहीं हुआ था। इस लिहाज से यह पवित्र स्थल सिखों के मन से जुड़ा धार्मिक स्थान है.