शाहिद अफरीदी द्वारा मोदी के खिलाफ बयान देने के बाद भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह और युवराज सिंह प्रशंसकों के निशाने पर

0
119

नई दिल्ली : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी की टिप्पणी पर बवाल मचा है। शाहिद अफरीदी ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आकर पीएम मोदी को निशाना बनाया था, लेकिन गुस्सा भारत के पूर्व क्रिकेटरों हरभजन सिंह और युवराज सिंह को भी झेलना पड़ा। कारण – अफरीदी की संस्था शाहिद अफरीदी फाउंडेशन. दरअसर, हरभजन सिंह और युवराज सिंह ने कभी शाहिद अफरीदी फाउंडेशन की मदद की और पैसे दिए थे। अब दोनों पछता रहे हैं और कह रहे हैं कि आगे ऐसी गलती नहीं होगी। हरभजन सिंह ने तो अफरीदी के बयान पर गुस्सा भी जताया है।

पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी की संस्था को मदद करने की अपील करने के बाद हरभजनसिंह और युवराजसिंह प्रशंसकों के निशाने पर हैं। सोशल मीडिया में उन्हें ट्रोल किया जाने लगा, जिसके बाद दोनों ने सफाई दी है। कोरोना से लड़ाई के लिए भज्जी और युवी ने लोगों से अफरीदी की संस्था को मदद करने की बात कही थी। मगर अफरीदी ने कश्मीर और भारतीय प्रधानमंत्री के बारे में अपमानजनक टिप्पणी कर दी।

युवराज सिंह ने कहा – हमने मानवता के लिए उनके फाउंडेशन की मदद के लिए लोगों से आग्रह किया था। उनके विचार सुनकर दुख हुआ। जिम्मेदार भारतीय होने के नाते मैं इसे स्वीकार नहीं कर सकता। मैं उनके लिए दोबारा कभी ऐसा काम नहीं करूंगा। हरभजन ने कहा- अफरीदी अपने देश की चिंता करें। इस घटना से साफ है कि अब उनके साथ कोई दोस्ती नहीं रही। उन्होंने अपनी हदें पार कर दीं।

गौतम गंभीर ने नाराजगी जताते हुए कहा- पाकिस्तान के पास 7 लाख फौजी हैं और 20 करोड़ लोग उनके पीछे हैं। ऐसा कहना है 16 साल के शख्स शाहिद अफरीदी का। फिर भी 70 साल से कश्मीर के लिए भीख मांग रहे हैं। अफरीदी, इमरान खान और बाजवा जैसे जोकर भारत और प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ सिर्फ जहर ही उगल सकते हैं।