इमरान का फैसला पाक सेना ने पलटा, कहा- भारतीय श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट जरूरी

0
50

नई दिल्ली/इस्लामाबाद. भारत के सिख श्रद्धालुओं को करतारपुर जाने के लिए पासपोर्ट की जरूरत पड़ेगी। मीडिया के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने गुरुवार को कहा कि सुरक्षा से कोई समझौता नहीं होगा। श्रद्धालुओं को पाकिस्तान में एंट्री के लिए पासपोर्ट दिखाना अनिवार्य होगा।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 1 नवंबर को कहा था कि करतारपुर आने के लिए श्रद्धालुओं को पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी। बस एक वैध आईडी साथ लाना होगा। इसके बाद भारत ने बुधवार को पाकिस्तान से पासपोर्ट को लेकर स्थिति स्पष्ट करने के लिए कहा था। इस पर पाकिस्तानी सेना का यह बयान आया है।

इमरान खान शनिवार को करतारपुर कोरिडोर का उद्घाटन करेंगे। इमरान ने यह भी कहा था कि श्रद्धालुओं को 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन नहीं कराना होगा और गुरु नानक देव के जयंती के दिन 12 नवंबर को श्रद्धालुओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा। अन्य दिन 20 डॉलर (करीब 1400रु.) का शुल्क लिया जाएगा।

दोनों देशों के बीच हुए समझौते के तहत रोजाना पांच हजार श्रद्धालुओं को दरबार साहिब जाने की अनुमति होगी। इसके लिए उन्हें वीजा नहीं लेना होगा, लेकिन पासपोर्ट जरूरी होगा। कॉरिडोर से आने वाले पांच हजार श्रद्धालुओं से पाकिस्तान को रोजाना एक लाख डॉलर की आय होगी यानी एक साल में उसे तीन करोड़ 65 लाख डॉलर राशि की आय होगी। वर्तमान में डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी रुपए का मूल्य 155.72 रुपए है। इस हिसाब से रोजाना उसे 1.55 लाख रुपए और सालभर में करीब छह अरब रुपए की कमाई होगी।

करतारपुर कॉरिडोर भारत के पंजाब में डेरा बाबा नानक तीर्थस्थल को पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के नारोवाल जिले में करतारपुर में दरबार साहिब से जोड़ेगा। अंतरराष्ट्रीय सीमा से इसकी दूरी महज चार किलोमीटर है।