जीएसटी को लागू करना सरकार का पागलपन, इसे खत्म करना चाहिएः सुब्रमण्यम स्वामी

0
74

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री व भाजपा सांसद डाॅ. सुब्रमण्यम स्वामी ने जीएसटी लागू करने के निर्णय को पागलपन बताया। विराट हिंदोस्तान संगम की राज्य कार्यकारिणी के गठन के बाद प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए डा. स्वामी ने कहा, कि जीएसटी लागू होने से कुछ होने वाला नहीं है ऐसे में इसे खत्म कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को सेठों को रियायतें देने के अलावा आम आदमी को राहत देने के लिए कार्य करना चाहिए। बैंकों में ब्याज दर को बढ़ाया जाना चाहिए, ताकि लोग बैंकों में पैसा जमा करने के लिए आगे आए।

हमारे देश के इतिहास से बहुत खिलवाड़ हुआ हैं

उन्होंने लोगों को दिए जाने वाले ऋण की ब्याज दर को कम किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि सेठों को आयकर में छूट देने के विरोधी नहीं है, लेकिन आम आदमी के हाथ तक अधिक पैसा पहुंचाने की दिशा में प्रयास किए जाने चाहिए। पूर्व प्रधानमंत्री डाॅ. मनमोहन सिंह अच्छे आदमी हैं, ईमानदार हैं, लेकिन वे राष्ट्रवादी चरित्र नहीं निभाते। वे इटली की महिला से डरते हैं। उन्होंने कहा कि हमारे देश के इतिहास से बहुत खिलवाड़ हुआ है। देश के युवाओं को देश के गौरवशाली इतिहास से अवगत कराना जरूरी है।

गांधी जी की मौत का फायदा उठाया और आरएसएस पर बैन लगाया

राज्यसभा सांसद वरिष्ठ नेता डाॅ. सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा कि गोडसे के बारे में, मैं शोध कर रहा हूं कि क्या उन्होंने गांधी की हत्या की या उनके खिलाफ एक साजिश रची गई थी। जेएनयू के प्रोफेसर झूठ बोलने और लिखने में माहिर हैं। देश के गौरवशाली इतिहास और विजयनगर जैसे साम्राज्य का इतिहास और हिंदुओं के इतिहास को छुपाया गया है। पंडित नेहरू पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा, कि गांधी जी की मौत का फायदा उन्होंने उठाया और आरएसएस पर बैन लगाया। इस अवसर पर राज्यपाल आचार्य बंडारू दत्तात्रेय ने भी अपने विचार प्रकट किए।