भारत आने को तैयार नहीं भगोड़ा जाकिर नाईक

0
42

नई दिल्ली। विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाईक ने एक बयान जारी कर फिर से अपने ऊपर लगे आरोपों को झूठ साबित करने की कोशिश की है. जाकिर नाईक ने कहा है, कि भारत की जांच संस्था बीजेपी के इशारे पर काम कर रही है. भारत आने से इनकार करते हुए जाकिर नाईक ने कहा कि अगर एनआईए के आईजी उससे पूछताछ करना चाहते हैं तो वे मलेशिया आएं, वो यहां पर अपनी सफाई रखेगा. जाकिर नाईक ने कहा कि ये एनआईए को उसका खुला निमंत्रण है.

एनआईए को बीजेपी का राजनीतिक हथियार नहीं बनना चाहिए

भारत की जांच एजेंसियों से भागकर मलेशिया में बैठे जाकिर नाईक ने बीजेपी पर भड़ास निकाली. जाकिर नाईक ने कहा कि एनआईए को बीजेपी से निर्देश नहीं लेना चाहिए. नाईक ने कहा कि एनआईए को बीजेपी का राजनीतिक हथियार नहीं बनना चाहिए.

मेरे विचार से नहीं प्रभावित हुए 127 लोग

जाकिर नाईक ने दावा किया कि एनआईए ने कहा है कि उसने 127 संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया है, जो उसके विचारों से प्रभावित होकर भारत में आतंकी गतिविधियों को बढ़ावा देते थे. जाकिर ने कहा कि एनआईए का ये दावा बिना सबूतों के आधार पर है. जाकिर नाईक ने कहा कि सोशल मीडिया पर किसी को फॉलो मात्र कर लेने से कोई आतंकी नहीं बन जाता है. बल्कि कंटेट की वजह से एक शख्स आतंकी बनता है. नाईक ने कहा कि एनआईए के पास ऐसा एक भी कंटेट नहीं है.

20 करोड़ लोगों तक पहुंचता है संदेश

मेनस्ट्रीम मीडिया और सोशल मीडिया पर अपनी पहुंच की शेखी बघारते हुए जाकिर ने कहा कि उसका संदेश 20 करोड़ लोगों तक पहुंचता है, और पीस टीवी 150 देशों में देखी जा रही है. जाकिर नाईक ने कहा कि फेसबुक पर उसके 17 मिलियन फॉलोअर हैं. जाकिर नाईक ने अपने ऊपर लगे धर्मांतरण के आरोपों को भी गलत कहा. उसने कहा कि उसने किसी को भी जबरन इस्लाम की शिक्षा नहीं दी है.