लद्दाख में सीमाई इलाकों के विकास पर रहेगा फोकसः आर.के. माथुर

0
63

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश बन गए हैं. 31 अक्टूबर को इन दोनों नए केंद्र शासित प्रदेशों का जन्म हुआ. इसी के साथ ही जम्मू-कश्मीर के लिए गिरीश चंद्र मुर्मू और लद्दाख के लिए राधा कृष्ण माथुर को नया उपराज्यपाल बनाया गया है. राधा कृष्ण माथुर को हाई कोर्ट चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने पद की शपथ दिलाई. शपथग्रहण कार्यक्रम लेह के सिंधू संस्कृति ऑडिटोरियम में हुआ.
इंडिया टुडे से बातचीत में राधा कृष्ण माथुर ने कहा, मेरा लक्ष्य जनता के मुद्दों को सुनना होगा और जनता ही प्राथमिकता तय करेगी. यहंा एक ऐतिहासिक कदम उठाया गया है. मुझे खुशी है कि मुझे इसका हिस्सा बनने का मौका मिला. राधा कृष्ण माथुर 1977 बैच के आईएएस ऑफिसर हैं. वह प्रधान सचिव, इन्फोर्मेशन कमिश्नर जैसे अहम पदों पर रह चुके हैं.

सीमाई इलाकों का विकास

उपराज्यपाल राधा कृष्ण माथुर ने कहा कि संवेदनशील सीमाई इलाकों पर फोकस किया जाएगा. उन्होंने कहा, मेरा मानना है कि सीमाई इलाकों पर ध्यान देने की जरूरत है. लद्दाख में भी सीमाई इलाकों पर ध्यान दिया जाएगा. भारत सरकार ने लद्दाख में पहले ही कई प्रॉजेक्ट शुरू किए हैं, हम इन्हें बढ़ाने की कोशिश करेंगे.
वहीं लद्दाख में बेकाबू टूरिज्म और जमीन के मालिकाना हक जैसे मुद्दों को लेकर उन्होंने कहा कि विकास लोगों को ध्यान में रखकर किया जाएगा तथा जनता की समस्याओं का समाधान किया जाएगा.