पंकजा पर टिप्पणी के मामले में धनजंय मुंडे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज

0
93

नई दिल्ली। पंकजा मुंडे पिता की सियासी विरासत को बढ़ा रही हैं, बीजेपी के दिवंगत दिग्गज नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी हैं पंकजा मुंडे. मुंडे मौजूदा महाराष्ट्र सरकार में ग्राम, महिला एवं बाल विकास मंत्री हैं और मराठवाड़ा की परली सीट से चुनाव लड़ रही हैं. 2009 में पंकजा पहली बार विधायक चुनीं गईं और 2014 में उन्होंने दोबारा जीत हासिल की. पंकजा मुंडे का मुकाबला अपने ही चचेरे भाई धनंजय मुंडे के साथ हो रहा है जो कि एनसीपी से उनके खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं.

राकांपा नेता की टिप्पणियों वाला वीडियों सोशल मीडिया में वायरल हो गया

महाराष्ट्र की मंत्री एवं अपनी चचेरी बहन पंकजा मुंडे पर एक चुनाव रैली में कथित आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में राकांपा नेता धनंजय मुंडे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. पुलिस के एक अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. अधिकारी ने बताया, कि मंत्री के खिलाफ राकांपा नेता की टिप्पणियों वाला वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था. इसके बाद बीड जिले के परली से ताल्लुक रखने वाले एक भाजपा नेता ने शनिवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी. एनसीपी नेता ने हालांकि कहा, कि जो वीडियो वायरल हुआ है, उससे छेड़छाड़ की गई है और वह फर्जी है. उनकी टिप्पणियों को ‘तोड़ा-मरोड़ा’ गया है. दोनों चचेरे भाई-बहन परली से चुनाव मैदान में हैं. धनंजय एनसीपी से तो पंकजा बीजेपी की उम्मीदवार हैं.

वायरल वीडियो फर्जी हैं

पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘परली भाजपा अध्यक्ष जुगल किशोर लोहिया की शिकायत पर शनिवार देर रात धनंजय मुंडे के खिलाफ मानहानि, महिला की गरिमा को ठेस पहुंचाने के लिए शब्द, हावभाव का इस्तेमाल और सार्वजनिक स्थल पर अश्लील कृत्य के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई. लोहिया ने आरोप लगाया कि धनंजय ने पंकजा के खिलाफ 17 अक्टूबर को विडा गांव में एक सार्वजनिक बैठक के दौरान अश्लील टिप्पणयां कीं.बीजेपी ने इस बारे में निर्वाचन आयोग और महिला आयोग से भी शिकायत की है. वहीं, धनंजय मुंडे ने शनिवार देर रात फेसबुक पर एक बयान में कहा कि उनकी टिप्पणियों को ‘तोड़ा-मरोड़ा’ गया है और वायरल वीडियो फर्जी है. उन्होंने कहा कि ‘संपादित’ क्लिप की प्रामाणिकता की जांच फॉरेंसिक प्रयोगशाला में कराई जानी चाहिए. राज्य विधान परिषद में नेता विपक्ष ने कहा कि जिन लोगों ने वीडियो को संपादित किया है, उन्हें कम से कम बहन-भाई के पवित्र रिश्ते का तो सम्मान करना चाहिए था.