डोनाल्ड ट्रम्प की प्रदर्शनकारियों को धमकी, कहा – अगर प्रदर्शन यही नहीं रोका तो हमें करना पड़ेगा सैनिक बल का उपयोग

0
341

अमेरिका : अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद शुरू हुई हिंसा बढ़ती ही जा रही है और अब इसकी चपेट में 140 शहर आ गए हैं। प्रदर्शनकारियों की उग्रता को देखते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चेतावनी दी है कि यदि हिंसा का यह दौर यहीं नहीं रुका तो वह शांति व्यवस्था स्थापित करने के लिए सेना का इस्तेमाल करेंगे। उधर, ह्यूस्टन के पुलिस चीफ ने कहा कि अगर सकारात्मक बात नहीं बोल सकते, तो मुंह बंद रखें ट्रंप। व्हाइट हाउस से राष्ट्र को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि फ्लॉयड की बर्बर मौत से अमेरिका के सभी नागरिक दुखी हैं। ट्रंप ने इस बात पर जोर दिया कि इस मामले में न्याय होगा। उन्होंने राष्ट्र को आश्वासन दिया कि वह हिंसा को रोकने और अमेरिका में सुरक्षा बहाल करने के लिए कदम उठा रहे हैं।

राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने बर्बादी और आगजनी को, दंगों और लूट को रोकने तथा कानून का पालन करने वाले अमेरिकियों के अधिकारों को संरक्षित करने के लिए सभी उपलब्ध सरकारी संसाधनों, नागरिकों और सेना को जुटा लिया है। ट्रंप ने कहा कि आज मैं प्रत्येक गवर्नर को सड़कों पर पर्याप्त संख्या में नेशनल गार्ड की तैनाती करने की सलाह देता हूं। अगर कोई शहर या राज्य अपने निवासियों के जान-माल की रक्षा करने के लिए जरूरी कदम उठाने से इनकार करता है, तो मैं अमेरिकी सेना को तैनात करुंगा और उनके लिए जल्द ही समस्या का हल कर दूंगा।

मिनीपोलिस में 25 मई को 46 वर्षीय अश्वेत नागरिक फ्लॉयड की गर्दन को एक पुलिसकर्मी ने घुटने से काफी देर तक दबाए रखा, जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद देशभर में अश्वेत नागरिकों ने पुलिस की इस कार्रवाई के खिलाफ जगह-जगह पर विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया, जो बाद में हिंसक हो गया। डॉक्टरों ने जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को हत्या बताया है। उन्होंने कहा कि पुलिस के उनके गले पर दबाव बनने से उनके दिल ने काम करना बंद कर दिया था। मामले में आरोपी मिनियापोलिस के एक पुलिस अधिकारी और उसके साथ तीन अन्य अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here