हड़ताल पर गए बांग्लादेश क्रिकेट टीम के खिलाड़ी , जानिए क्या हैं मांगे

0
218

नई दिल्ली: बांग्लादेशी क्रिकेटर सोमवार को हड़ताल पर चले गए हैं. उन्होंने कहा है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं हो जाती, तब वह किसी भी तरह की क्रिकेट गतिविधि में हिस्सा नहीं लेंगे. इससे बांग्लादेश के भारत दौरे पर सवाल खड़ा हो गया है, हालांकि यह कहना अभी जल्दबाजी होगा कि टीम का भारत दौरा खतरे में है. रिपोर्ट के मुताबिक, शाकिब अल हसन, तमीम इकबाल और मुश्फीकुर रहीम सोमवार सुबह 11 बजे बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) मुख्यालय पर पहुंचे जहां उन्होंने 11 सूत्री अपनी मांगें बोर्ड के सामने रखीं और हड़ताल का ऐलान किया.

रिपोटर्स के मुताबिक, खिलाड़ियों को बांग्लादेश प्रीमियर लीग (बीपीएल) के सातवें सीजन में वेतन को लेकर समस्या आ रही है. खिलाड़ियों ने सोमवार को संवाददाता सम्मेलन के लिए पत्रकारों को बुलाया जहां उन्होंने यह फैसला लिया. बांग्लादेश को भारत दौरे पर तीन मैचों की टी-20 सीरीज खेलनी हैं. इसके बाद दो टेस्ट मैचों की सीरीज भी खेलनी है. बांग्लादेश के भारत दौरे की शुरुआत तीन नवंबर से हो रही जहां दोनों टीमें दिल्ली में पहला टी-20 खेलेंगी.

क्या है खिलाड़ियों मांगें
1- बांग्लादेश के क्रिकेटर्स वेलफेयर एसोसिएशन के कामकाज से असंतुष्ट हैं. उन्हें लगता है कि इसने उनके लाभ के लिए कुछ नहीं किया है. इसलिए वे चाहते हैं कि क्रिकेटर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष और सचिव पद छोड़ दें और उनकी जगह नए अध्यक्ष और सचिव को खिलाड़ियों द्वारा मतदान के माध्यम से चुना जाए.

2- खिलाड़ियों को अपनी टीमों को चुनने और ढाका प्रीमियर लीग टीमों के साथ वेतन को लेकर बातचीत करने की अनुमति दी जानी चाहिए.

3-बांग्लादेश प्रीमियर लीग की टीमें अब क्रिकेट बोर्ड द्वारा ही संचालित की जाती हैं. खिलाड़ियों की यह मांग है कि इसे पहले की तरह फ्रेंचाइज़ी-आधारित मॉडल पर आधारित कर देना चाहिए. साथ ही स्थानीय खिलाड़ियों को अपना आधार मूल्य निर्धारित करने की अनुमति दी जानी चाहिए.

4- खिलाड़ियो की मांग है कि प्रथम श्रेणी के क्रिकेट में पारिश्रमिक एक लाख टका प्रति मैच (लगभग 83,700 रुपये) तक बढ़ाया जाए, जो वर्तमान स्तर से लगभग तीन गुना वृद्धि होगी. साथ ही खिलाड़ियों के भत्ते और अन्य सुविधाओं में भी सुधार की मांग की गई है.

5- ग्राउंड्समैन, लोकल कोच, अंपायर, फिजियो और ट्रेनर की सैलरी बढ़ाई जानी चाहिए.

6-घरेलू सीजन के लिए एक उचित कैलेंडर को पहले से अंतिम रूप दिया जाना चाहिए.

7-ढाका प्रीमियर लीग में खिलाड़ियों को लंबित भुगतान को जल्द मंजूरी देनी चाहिए.

इन मुद्दों समेत कई अन्य मुद्दे जैसे घरेलू क्रिकेट को और अधिक प्रतिस्प्रधा बनाना, आर्थिक ढ़ांचे का सुधार करना आदि खिलाड़ियों की मांगों में शामिल है.