मैं टीम का सिपाही हूं, सोनिया गांधी जो कहेंगी वह करूंगाः कीर्ति आजाद

0
53

नई दिल्ली। दिल्ली कांग्रेस की चुनाव प्रचार समिति के प्रमुख कीर्ति आजाद ने कहा है कि वह आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं हैं, लेकिन पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी का जो भी आदेश होगा, उसका वह पालन करेंगे. मुख्यमंत्री पद के लिए चेहरे से जुड़े सवाल पर आजाद ने कहा कि वह फिलहाल सोनिया गांधी की टीम के ‘सिपाही’ के रूप में कर्म करने में लगे हुए हैं.

अयोध्या का फैसले का असर चुनाव पर नहीं पड़ेगा

आजाद ने यह दावा भी किया कि अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजों पर कोई असर नहीं पड़ेगा. दो दशक के बाद दिल्ली की राजनीति में वापसी करने वाले आजाद ने कहा, ‘‘सोनिया जी ने कहा कि मुझे यह जिम्मेदारी संभालनी है तो मैंने इसे स्वीकार किया क्योंकि मैं खिलाड़ी आदमी हूं, अनुशासन में रहने वाला हूं. आशा करता हूं कि सोनिया जी ने मुझ पर जो विश्वास जताया है कि उस पर मैं खरा उतरूंगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने 25 साल भाजपा में सेवा की और जब भ्रष्टाचार उजागर किया तो निकाल दिया गया. कांग्रेस में मुझे मान-सम्मान दिया गया है. अपने पिता के घर वापस आया हूं.’’

सोनिया जो आदेश देंगी, वह मैं करूंगा

यह पूछे जाने पर कि क्या कांग्रेस ने उन्हें परोक्ष रूप से मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर पेश किया है तो उन्होंने कहा, ‘‘ मैं इन सब चीजों के बारे में सोचता नही हूं. भगवान कृष्ण ने कहा था कि कर्म किए जा, फल की इच्छा मत रख. मैं टीम का सिपाही हूं. मेरी कप्तान सोनिया जो आदेश देंगी, वह मैं करूंगा. मैं आज की सोचता हूं. जो कुछ होता है, वह पार्टी तय करती है.’’ उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली कांग्रेस पूरी तरह एकजुट है और सभी नेता साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे.

पूर्वांचली होकर भी पूर्वांचलियों का अपमान करते हैं

आजाद ने बीजेपी और आम आदमी पार्टी पर पूर्वांचलियों की अनदेखी करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इस वर्ग को हमेशा सम्मान दिया है. उन्होंने दावा किया, ‘‘बीजेपी और आप दोनों खुद को पूर्वांचलियों का हितैषी बताते हैं और अगर वे हितैषी हैं तो सिर्फ वोट लेने के लिए हितैषी हैं. पूर्वांचली सम्मान के भूखे हैं. क्या अरविंद केजरीवाल का लाखों रुपये के इलाज वाला बयान उचित था? मनोज तिवारी अपने आका को खुश करने के लिए कहते हैं कि अपराध करने वाले 80 फीसदी बाहरी लोग हैं. वह पूर्वांचली होकर भी पूर्वांचलियों का अपमान करते हैं.’’