कानून व्यवस्था से जुड़े सभी फील्ड अफसरों की छुट्टियां 30 नवंबर तक रद्दः योगी

0
77

नई दिल्ली। योगी सरकार ने अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट से आने वाले फैसले के मद्देनजर फील्ड में तैनात कानून व्यवस्था से जुड़े सभी अफसरों की छुट्टियां रद्द कर दी है। अब अफसरों को 30 नवंबर तक छुट्टी नहीं मिलेगी। वहीं, अयोध्या में दो दिन पहले 10 दिसंबर तक के लिए धारा 144 लगाई गई है। सुरक्षा के लिहाज से पुलिस, अर्द्धसैनिक बल व जल पुलिस की तैनाती की जा रही है। फोर्स को ठहराने के लिए अयोध्या के करीब 200 स्कूलों को चिन्हित किया गया है। इन स्कूलों को बंद करने की तैयारी चल रही है।

दीपोत्सव में बनेगा नया रिकॉर्ड

बुधवार को अयोध्या के राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवादित स्थल प्रकरण की सुनवाई का आखिरी दिन है। माना जा रहा है कि, चार या पांच नवंबर को फैसला आ सकता है। इस बार अयोध्या में योगी सरकार द्वारा दीपोत्सव को भव्य बनाने की तैयारी की जा रही है। मंगलवार को यूपी के मुख्य सचिव आरके तिवारी, अपर मुख्य सचिव व डीजीपी ने अयोध्या का दौरा कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया था। संतों के साथ भी बैठ की गई थी। दावा किया गया है कि, इस बार दीपोत्सव बेहद भव्य होगा। करीब पांच लाख 51 हजार दीये जलाकर नया रिकॉर्ड बनाया जाएगा।

आज सुनवाई का आखिरी दिन

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई का 40वां दिन है। बुधवार को जब सुनवाई शुरू हुई तो वकीलों ने हस्तक्षेप करने और दलीलें पेश करने के लिए अतिरिक्त समय देने की मांग की। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने यह अपील खारिज कर दी। उन्होंने कहा- बहुत हो चुका। आज शाम 5 बजे सुनवाई खत्म हो जाएगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने विवादित जमीन को 3 हिस्सों में बांटने के लिए कहा था

2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कहा था, कि अयोध्या का 2.77 एकड़ का क्षेत्र तीन हिस्सों में समान बांट दिया जाए। एक हिस्सा सुन्नी वक्फ बोर्ड, दूसरा निर्मोही अखाड़ा और तीसरा रामलला विराजमान को मिले। हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में 14 याचिकाएं दाखिल की गई थीं।