ईडी ने जेल में पूछताछ के बाद, चिदंबरम को किया गिरफ्तार

0
95

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से करीब दो घंटे पूछताछ की। विशेष अदालत से अनुमति मिलने पर ईडी की टीम सुबह तिहाड़ जेल पहुंची थी, पूछताछ के बाद चिदंबरम को गिरफ्तार कर लिया गया। इसबीच, चिदंबरम की पत्नी नलिनी और बेटे कार्ति भी उनसे मिलने जेल पहुंचे थे। वहीं, सीबीआई भ्रष्टाचार केस में चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति के खिलाफ चार्जशीट दायर करने की तैयारी कर रही है।

इस निर्णय प्रक्रिया मंे कई सरकारी अधिकारी भी शामिल

सीबीआई की चार्जशीट में आरोप है कि चिदंबरम ने वित्त मंत्री रहते हुए रिश्वत लेकर आईएनएक्स मीडिया को 2007 में 305 करोड़ रु. लेने के लिए विदेशी निवेश प्रोत्साहन बोर्ड से मंजूरी दिलाई थी। इस निर्णय प्रक्रिया में कई सरकारी अधिकारी भी शामिल थे, जिनमें से एक का नाम सीबीआई चार्जशीट में हो सकता है। हालांकि, इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के करीबी माने जा रहे इस अधिकारी के नाम का खुलासा नहीं हुआ। सीबीआई की चार्जशीट में इंद्राणी सरकारी गवाह हो सकती हैं। फिलहाल, वे बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में जेल में बंद हैं।

चिदंबरम ने सुप्रीम कोर्ट में जमानत याचिका लगाई

इससे पहले चिदंबरम ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल की। चिदंबरम की तरफ से वकील कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से कहा था कि इस मामले में पूर्व वित्त मंत्री या उनके परिवार के किसी सदस्य पर गवाहों को प्रभावित करने या उनके पास जाने का आरोप नहीं है। सीबीआई चिदंबरम को अपमानित करने के लिए जेल में रखना चाहती है। चिदंबरम के वकीलों ने जमानत याचिका खारिज करने संबंधी दिल्ली कोर्ट के आदेश पर भी सवाल उठाए।

सीबीआई ने चिदंबरम को 21 अगस्त को गिरफ्तार किया था

आईएनएक्स मीडिया केस में भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे चिदंबरम 5 सितंबर से तिहाड़ जेल में बंद हैं। विशेष अदालत ने 30 सितंबर को तीसरी बार उन्हें हिरासत में भेजने के आदेश दिए थे। चिदंबरम की न्यायिक हिरासत 17 अक्टूबर को खत्म हो रही है। सीबीआई ने 21 अगस्त को चिदंबरम को घर से गिरफ्तार किया था। इसके बाद जांच एजेंसी ने 14 दिन हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की थी।