तमिलनाडु में बाल कटवाने के लिए अब दिखाना होगा आधार कार्ड, सलून वालों के पास हर कस्टमर का होना चाहिए रिकॉर्ड

0
190

नई दिल्ली : भारत में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के चलते जारी लॉकडाउन 5 और अनलॉक- 1 में भारत के प्रतिएक राज्य में कई चीजों में छूट मिलनी शुरू हो गई है। भारत के अधिकतर राज्य में सैलून को खोलने की अभी अनुमित नहीं मिली है। लेकिन कुछ राज्यों में दिशा-निर्देशों के साथ सैलूनों को खोलने अनुमित दे दी गई है। वहीं तमिलनाडु सरकार ने सैलून को खोलने की इजाजत देते हुए एक विज्ञप्ति जारी की है। जिसमें कहा गया है कि अगर कोई भी व्यक्ति बाल कटवाना चाहता है तो उसे आधार कार्ड दिखाना जरूरी होगा। साथ ही सैलून के मालिक आने वाले प्रतिएक ग्राहक का नाम, पता, फोन नंबर और आधार कार्ड नंबर का रिकार्ड जरूर रखेंगे।खबरों से मिली जानकारी के मुताबिक, सैलून में सिर्फ 50 प्रतिशत स्टाफ को ही आने की अनुमति होगी। सैलून मालिक ग्राहक को डिस्पोजेबल एप्रन और जूते के लिए कवर देंगे। यदि ग्राहक कस्टमर का बिल 1 हजार रुपये आता है तो उन्हें 150 रुपये डिस्पोजेबल एप्रन और फुट कवर का देना होगा।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि लॉकडाउन 5 में एक 1 जून से तमिलनाडु में सभी सैलून और ब्यूटी पॉर्लर खुले नजर आए। तमिलनाडु सरकार ने सैलून और ब्यूटी पॉर्लर खोलने के लिए कुछ गाइडलाइन जारी की हैं। जिसमें सामाजिक दूरी, साफ-सफाई, फेस मास्क और दस्तानों के साथ ही ग्राहक का आधार कार्ड दिखाना अनिवार्य किया है। यदि कोई व्यक्ति इसका पालन नहीं करता तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि भारत में तमिलनाडु दूसरा सबसे ज्यादा संक्रमित राज्य बन गया है। यहां पर कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 23 हजार 495 हो गई है। इनमें 10 हजार 138 मामले एक्टिव हैं और 13 हजार 170 लोग ठीक हो चुके हैं। वहीं अबतक यहां पर 187 लोगों की मौत हो चुकी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here