बैंक में फंसे 90 लाख रुपये, खाताधारक की हुई हार्ट अटैक से मौत

0
110

मुंबई. जाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (PMC) बैंक घोटाले के सामने आने के बाद से खाताधारकों को कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. सोमवार को पीएमसी बैंक के एक खाताधरक संजय गुलाटी की मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि संजय के खाते में 90 लाख रुपये जमा थे.

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, संजय सोमवार को निवेशकों के साथ एक रैली में शामिल हुए थे, जहां उन्होंने निवेशकों को अपने पैसों की खातिर रोता-गिड़गिड़ाता देखा. लोगों का यह हाल देखने के बाद जब वह घर लौटे तो काफी बेचैन थे, जिसके कुछ देर बाद उनकी मौत हो गई.

व्यापार में जरूरत थी रुपयों की

संजय गुलाटी के अलावा उनके 80 वर्षीय पिता सीएल गुलाटी, 75 वर्षीय मां वर्षा गुलाटी तथा 46 वर्षीय पत्नी बिंदु गुलाटी के बैंक अकाउंट भी पीएमसी बैंक में थे. परिवार ने बताया कि संजय गुलाटी को व्यापार के लिए रुपयों की जरूरत थी और इसी के चलते वे कई दिनों से परेशान चल रहे थे. उनको दिनों दिन घाटे का सामना करना पड़ रहा था और इसी के चलते वह अवसाद में थे. सोमवार रात को उन्हें दिल का दौरा पड़ा और मौत हो गई. उनके परिजन ने कहा कि उनकी मौत के लिए पीएमसी पूरी तरह से जिम्मेदार है.

एक दिन पहले ही आरबीआई ने बढ़ाई थी लिमिट
भारतीय रिजर्व बैंक ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक के खाताधारकों को सोमवार को कुछ राहत भी दी थी. आरबीआई ने पीएमसी बैंक से पैसे निकासी की सीमा को 25,000 रुपये से बढ़ाकर 40,000 रुपये कर दिया था. बता दें कि यह तीसरी बार हुआ है जब आरबीआई ने पीएमसी बैंक से पैसे निकासी की सीमा को बढ़ाया है.

तीसरी बार बढ़ाई लिमिट
रिजर्व बैंक ने 3 अक्टूबर को PMC बैंक के ग्राहकों के लिए कैश निकालने की सीमा 10,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी थी. अभी इस बैंक के ग्राहक अपने खातों से 40,000 रुपये तक निकाल सकते हैं जबकि पहले वे 25,000 रुपये ही निकाल सकते थे. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक डिपॉजिटर्स के हित और बैंक का रिवाइवल पहली प्राथमिकता है.