पाकिस्तान की श्रद्धालुओं को 2 छूट- पासपोर्ट नहीं सिर्फ वैध आईडी लगेगी, 10 दिन पूर्व रजिस्ट्रेशन जरूरी नहीं

0
209

नई दिल्ली। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने करतारपुर साहिब आने वाले श्रद्धालुओं को दो छूट दी हैं। पहला उन्हें यहां आने के लिए पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी, बस एक वैध आईडी साथ लाना होगा। दूसरा, उन्हें 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन नहीं कराना होगा और उद्घाटन वाले दिन श्रद्धालुओं से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।
उधर, करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं पर करीब 20 डॉलर (1420 भारतीय रु.) का शुल्क लगाए जाने से शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल ने गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से अपील की कि वे इसे आय का स्रोत न बनाएं। यह शुल्क बहुत ज्यादा है। करतारपुर कॉरिडोर का उद्घाटन 9 नवंबर को किया जाएगा। उधर, विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि जो लोग करतारपुर काॅरिडोर के लिए भारत के आधिकारिक जत्थे का हिस्सा नहीं हैं या जिन्हें पाकिस्तान से न्योता मिला है, उन्हें वहां जाने के लिए नियमानुसार राजनीतिक मंजूरी लेनी होगी। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू 9 नवंबर को करतारपुर काॅरिडोर के उद्घाटन पर इमरान खान का न्योता स्वीकार कर चुके हैं।

‘पाकिस्तान द्वारा आमंत्रित लोगों को यात्रा से पहले मंजूरी लेनी होगी’

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि करतारपुर साहिब की यात्रा का मतलब पड़ोसी देश की यात्रा है। राजनीतिक हस्तियों और पाकिस्तान द्वारा आमंत्रित लोगों को यात्रा से पहले राजनीतिक मंजूरी लेनी होगी। मुझे लगता है कि राजनीतिक हस्तियां या निमंत्रित लोग, जो सोचते हैं कि उन्हें राजनीतिक मंजूरी लेनी होगी और उनके नाम सूची में नहीं हैं, उन्हें इसका पता चल जाएगा। कोई अचरज वाली बात नहीं होनी है। मेरी समझ यह है कि ऐसी यात्राओं के लिए राजनीतिक मंजूरी लेने का सामान्य नियम लागू होगा। भारत ने उद्घाटन समारोह में शामिल होने के लिए केंद्रीय मंत्रियों और राजनीतिक लोगों समेत 450 और 31 अन्य लोगों की सूची पाकिस्तान को मंजूरी के लिए भेजी है। लेकिन पता चला है कि पाकिस्तान कोई और ही सूची तैयार कर रहा है।

पाकिस्तान को रोजाना 1 लाख डॉलर की आय होगी

दोनों देशों के बीच हुए समझौते के तहत रोजाना पांच हजार श्रद्धालुओं को दरबार साहिब जाने की अनुमति होगी। इसके लिए उन्हें वीजा नहीं लेना होगा, लेकिन पासपोर्ट जरूरी होगा। कॉरिडोर से आने वाले पांच हजार श्रद्धालुओं से पाकिस्तान को रोजाना एक लाख डॉलर की आय होगी यानी एक साल में उसे तीन करोड़ 65 लाख डॉलर राशि की आय होगी। वर्तमान में डॉलर की तुलना में पाकिस्तानी रुपए का मूल्य 155.72 रुपए है। इस हिसाब से रोजाना उसे 1.55 लाख रुपए और सालभर में करीब छह अरब रुपए की कमाई होगी।

शुल्क वसूले जाने पर भारत ने निराशा जताई थी

पिछले महीने बैठक के दौरान भारत ने पाकिस्तान द्वारा शुल्क वसूले जाने पर निराशा जताई थी और उससे इस पर पुनर्विचार करने के लिए कहा है। केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर ने भी कहा था कि पड़ोसी देश आस्था के नाम पर खिलवाड़ कर रहा है।