बुलबुल से सहमें ओडिशा तटवर्ती जिले, हजारों पेड़ गिरे, रास्ता बाधित

0
35

भुवनेश्वर (विप्र)। दोपहर बाद तक बुलबुल का कहर बरकरार रहा। बुलबुल चक्रवाती तूफान का असर जगतसिंहपुर, भद्रक, केंद्रपाड़ा, बालासोर में अभी भी है।

तेज हवाएं और बारिस के कारण लोग सहमें से घरों में दुबके हैं। बुलबुल पारादीप से मात्र 135 किलोमीटर दूर है। इसकी गति समुद्र में 15 किलोमीटर प्रतिघंटा है। हजारों की संख्या में पेड़ गिरकर सड़क मार्ग को अवरुद्ध किए हैं।

रायगढ़ा और जाजपुर में पेड़ों के गिरने की घटनाएं हुई हैं। एनडीआरएएफ और ओड्राफ के जवानों से लोगों की मदद और रास्ता साफ करने में मुस्तैदी दिखायी। चक्रवात पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ रहा है।

राहत आयुक्त पीके जेना ने बताया कि धामरा, पारादीप और चंद्रबली में बीते 24 घंटों में 150 मिमी.वर्षा हुई और 90 से 110 किमी. प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चली।

केंद्रपाड़ा के राजनगर में भारी संख्या में पेड़ गिरे। इन क्षेत्रों की संचार व्यवस्था ठप हो गयी। मुख्य सचिव असित त्रिपाठी ने बताया कि बुलबुल चक्रवात से जानमाल का नुकसान नहीं हो पाया।