बीजेपी ने ओडिया भाषा को मुद्दा बनाकर नवीन को घेरा, कहा आप भी ओडिया में बोले

0
127

भुवनेश्वर। बीजेडी सरकार के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के ओडिया ज्ञान पर बीजेपी नेता विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष प्रदीप्तो कुमार नायक ने पटनायक को पत्र लिखकर सलाह दी है कि वो भी ओडि़या में लिखे, पढ़ें और बोले भी। नायक का कहना है कि राज्य का दुर्भाग्य है कि नवीन बाबू ओडिया के बजाय अंग्रेजी में बोलते हैं। भाषा को लेकर बीजेपी ने विधानसभा में बजट सत्र के दौरान नवीन को घेरने की रणनीति बनायी है। नेता प्रतिपक्ष प्रदीप्तो कुमार नायक ने सरकारी कामकाज, विधानसभा की कार्रवाई और न्यायिक रिपोर्ट्स में ओड़िया भाषा की अनिवार्यता की मांग की है। नायक ने यह भी कहा है कि मुख्यमंत्री खुद अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं। उनके लिखित बयान भी अंग्रेजी में आते हैं। वह ओड़िया का प्रयोग करें।

नायक ने कहा है कि ओडिया को कामकाज की भाषा बनाने के लिए हर जरूरी आदेश किए जाने चाहिए। उन्होंने मांग की है कि विधानसभा की समस्त कार्रवाई ओड़िया में की जानी चाहिए। उनका कहना है कि अधिकतर पत्र अंग्रेजी में लिखे जाते हैं। विधानसभा और लोक सेवा भवन का पत्र व्यवहार अंग्रेजी में होता है। उनका कहना है कि न्यायिक रिपोर्ट, विभागीय बजट, आयोगों की रिपोर्ट्स और अध्यादेश की भाषा ओड़िया नहीं होती है। यह ओडि़या होनी चाहिए।

बीजेपी नेता प्रदीप्तो कुमार नायक ने पत्र में यह भी लिखा कि मुख्यमंत्री नवीन पटनायक भी विधानसभा या बाहर जो भी बयान देते हैं वह पूरा अंग्रेजी में होता है। इसका ओडिया लोगों पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। मुख्यमंत्री खुद अंग्रेजी में लिखते पढ़ते बोलते हैं, यह दुर्भाग्य का विषय है। नायक ने यह भी कहा कि ओ़डिशा में हाईकोर्ट व अन्य कोर्ट अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं। यूपी, मध्यप्रदेश, बिहार, राजस्थान आदि की अदालतों ने हिंदी ने अपना रखी है तो ओडिशा में ओडिया क्यों नहीं अपनायी जानी चाहिए। दूसरी भाषा के रूप में ओड़िया का प्रयोग किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि चार नवंबर 2011 को राज्य का नाम उड़ीसा से ओडिशा हो गया और भाषा उड़िया से ओडिया हो गयी। पर कोर्ट ने यह बदलाव नहीं किया।