पढ़िये, लॉकडाउन-4 के लिए नवीन सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन

0
51

भुवनेश्वर। लॉकडाउन-4 में आपको क्या करना है और क्या नहीं करना है, इसकी गाइड लाइन राज्य सरकार ने जारी की है। लॉकडाउन ओडिशा में भी 31 मई तक रहेगा। मुख्यसचिव असित कुमार त्रिपाठी ने मीडिया से कहा कि लॉकडाउन के चौथे चरण में पंचायत के हिसाब से जोन निर्धारित किए जाएंगे। जिलाधिकारी एव म्युनिसिपल कमिश्नर जोन का निर्धारण करेंगे। मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग को अनिवार्य श्रेणी में रखा गया है। सार्वजनिक जगहों पर थूकने वालों से जुर्माना वसूला जाएगा। त्रिपाठी ने लॉकडाउन 4 के लागू करने पर बताया कि निजी और इंटरनेशनल उड़ाने बंद रहेंगी। सिर्फ एयर एंबुलेंस की अनुमति दी गयी है। स्कूल कालेज औ कोचिंग सेंटर बंद रहेंगे। ऑन लाइन एजूकेशन और पत्र विनिमय को महत्व दिया जाएगा। होटल एवं रेस्टोरेंट सेवा बंद रहेगी। हालांकि होम डिलीवरी करने की अनुमति है। सिनेमा हाल, शॉपिंग मॉल, ऑडिटोरियम बंद रहेगा। स्पोर्ट्स काम्पलेक्स स्टेडियम खुले रहेंगे। खिलाड़ी अभ्यास कर सकेंगे। पर बड़े मैच नहीं होंगे। सभा और रैली की अनुमति नहीं दी जाएगी। धार्मिक अनुष्ठान में पूजापाठ होगी। मगर वहां लोगों के जाने की अनुमति नहीं होगी। कैब से अन्य यात्रियों को लाने की अनुमति होगी। पर अंतर-राज्यीय बसों की अनुमति का निर्णय नहीं लिया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए गाड़ियों के चलने की अनुमति दी गयी है।

ओडिशा कोरोना अपडेटः कुल पॉजिटिव 896, ठीक हुए 277, आज मिले 68, कुल मौतें 4

जिलाधिकारी और म्युनिसिपल कमिश्नर को लोकल अथारिटी की क्षमता दी गयी है। रेड, आरेंज, ग्रीन, कंटेनमेंट एवं बफरजोन वे गाइड लाइन के मुताबिक निर्धारित करेंगे। कंटेनमेंट जोन में आवश्यक सेवाओं की अनुमति होगी। क्वारंटाइन सेंटरों को कंटेनमेंट के हिसाब से लिया जाएगा। इसके अन्दर खाद्य एवं दवा के अलावा और किसी भी सेवा की अनुमति नहीं दी जाएगी।1 लाख से अधिक प्रवासी ओडिआ वापस आए हैं। इस अवसर पर मुख्य सचिव ने कहा कि प्रवासियों को वापस लाने के लिए ओडिशा सरकार ने जो निर्णय लिया था उसके तहत 29 अप्रैल के बाद से आज तक अन्य राज्यों से 1 लाख 76 हजार 301 प्रवासी ट्रेन, बस एवं अन्य माध्यम से ओडिशा लौटे हैं। इसमें ट्रेन से 80 हजार, बस से 72 हजार लोग आए हैं। इस बीच 62 ट्रेन के जरिए लोग आ चुके हैं जबकि अभी 30 से 40 और ट्रेन के जरिए लोग आने वाले हैं। प्रवासियों को  क्‍वारंटाइन में रखने के लिए करीबन 6.5 लाख बेड की व्यवस्था की गई है। 15 हजार से अधिक अस्थाई मेडिकल कैंप ग्रामीण क्षेत्र में बनाए गए हैं। इतनी संख्या में क्वारेनटाइन में रखकर टेस्टिंग करने के मामले में ओडिशा अग्रणी राज्य है। लॉकडाउन 4 में अर्थनीति को महत्व देने के लिए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया था। राष्ट्रीय एसओपी में राज्य को अधिक क्षमता देने को कहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here