निजामुद्दीन मरकज से लौटे तीन कोरोना संदिग्धों को कटक से उठाया गया

0
35

भुवनेश्वर। ओडिशा में तीन ही पॉजिटिव केस सामने आए हैं जिनका कैपिटल अस्पताल में इलाज किया जा रहा है। सरकार की तरफ से नियुक्त कोरोना वायरस प्रबंधन के मुख्य प्रवक्ता सुब्रत बागची के अनुसार कुल 473 लोगों का परीक्षण मंगलवार की दोपहर तक किया गया। उधर निजामुद्दीन में मरकज से निकले तीन लोगों को क्वारंटाइन में भेजा गया है। इन्हें कटक की एक बस्ती से निकालकर निकालकर ले जाया गया। इनके परिजनों को मिलाकर 15 लोगों को भेजा गया।

निजामुद्दीन में तब्लीगीजमात केमरकज यानी इस्लामिक धार्मिक आयोजन केंद्र में कोरोना वायरस संक्रमण का सबसे बड़ा मामला सामने आया है। इसमें ओडिशा के भी कुछेक लोगों के शामिल होने की चर्चा है। अब तक वहां से निकल कर क्वारंटाइन में भेजे गए लोगों में से तीन लोग ओडिशा के हैं। एक से 15 मार्च तक हुए कार्यक्रम में पांच हजार विदेशी लोग थे। आयोजन खतम होने के बाद भी 2,000 लोग रुके थे। कुल 24 पॉजिटिव निकले। ओडिशा के कोरोना प्रबंधन के प्रवक्ता सुब्रत बागची ने कहा कि पहचान का काम जारी है कि कहीं ओडिशा के लोग नहीं हैं। उनके शामिल होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।

बागची ने पहले देश दुनिया में कोरोना संक्रमण की हालत तफसील से बतायी फिर ओडिशा की स्थिति पर बयान दिया। उनका कहना है कि तीसरे मरीज की केस हिस्ट्री कम्युनिटी ट्रांसमिशन की संकेत से इंकार नहीं किया जा सकता है पर लोगों की मुस्तैदी और सरकारी पहल के कारण हालात पर काबू पाया जा रहा है। उनका कहना है कि पहले दॊनों संक्रमित रोगी के संपर्क में 55 लोग आए थे, जबकि तीसरे संक्रमित के संपर्क में 112 लोग आए। दो कैपिटल अस्पताल तथा एक एम्स में है। बागची का कहना है कि 57 लोग अस्पताल में आइसोलेशन में रखे गए हैं। इसके अलावा 11,575 लोगों ने ओडिशा में सरकारी पोर्टल, हेल्पलाइन में अपनी आमद दर्ज करायी है। इनमें 4,304 लोग विदेश से आए। उनका कहना है कि 200 देश कोरोना वायरस से प्रभावित हैं। कुल 7,24,759 लोगो विश्व में संक्रमित हैं और 38,103 लोगों की मौत हो चुकी है।