चक्रवात से 45 लाख लोग प्रभावित, मुख्यमंत्री ने किया हवाई सर्वे

0
140

भुवनेश्वर। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने चक्रवात अम्फान से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। दूसरी तरफ ओडिशा के चीफ सेक्रेटरी असित कुमार त्रिपाठी का कहना है कि चक्रवाती तूफान अम्फान ने ओडिशा में जो तबाही का मंजर छोड़ा है उसमें एक अनुमान के अनुसार 89 ब्लाकों के 1500 गांवों के करीब 45 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। त्रिपाठी ने बुधवार को यूनियन कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा को नुकसान का मोटामोटी ब्यौरा दिया। त्रिपाठी वीडियो कांफ्रेंसिंग में ये जानकारी दे रहे थे। चक्रवाती तूफान अम्फान ने पश्चिम बंगाल के तट से टकराने से पहले ओडिशा के तटवर्ती जिलों को तबाह कर गया। हालांकि कुशल आपदा प्रबंधन के चलते बहुत ज्यादा जानमाल का नुकसान नहीं हो पाया। विशेष राहत आयुक्त ने सभी जिलाधिकारियों को जानमाल के नुकसान पर 48 घंटे भीतर रिपोर्ट देने को कहा है।

चीफ सेक्रेटरी ने केंद्रीय कैबिनेट सेक्रेटरी को बताया कि चक्रवात से 89 ब्लाक के करीब 44.80 लाख लोग 1,500 ग्राम पंचायत के प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि रोड रिपेयर, और बिजली के करीब 80 प्रतिशत नुकसान की मरम्मत का काम दो दिन के भीतर पूरा हो जाएगा। यह काम युद्धस्तर पर चल रहा है। उन्होंने बताया कि करीब दो लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया। तूफान से राहत और बचाव के लिए 210 मेडिकल टीम और पशु चिकित्सकों की 75 टीमें जुटायी गई हैं। ये टीमें प्रभावित इलाकों में काम कर रही हैं।

घरों की मरम्मत का भी काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि सेंट्रल इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई के कार्यक्षेत्र वाले इलाकों में बिजली की सप्लाई कल तक ठीक हो जाएगी। वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान विशेष राहत आयुक्त समेत शासन के कई सचिव स्तर के अधिकारी मौजूद थे। राजस्व एवं आपदा मंत्री सुदाम मरांडी ने किसानों को हुए नुकसान की भरपायी आंकलन के बाद करने को कहा है। तटीय इलाकों में रबी की फसल क्षतिग्रस्त हुई है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here