30 साल का हुआ वर्ल्ड वाइड वेब, बदला मानव समाज का भविष्य

0
42

नई दिल्ली: गूगल ने आज अपना डूडल वर्ल्ड वाइड वेब यानी WWW पर बनाया है। गूगल वर्ल्ड वाइड वेब की आज 30वीं सालगिरह मना रहा है। वर्ल्ड वाइड वेब ने मानव समाज के भविष्य को पूरी तरह से बदल दिया है। 12 मार्च, 1989 को 33 वर्षीय सर टिम बर्नर्स-ली ने अपने बॉस को एक प्रपोजल ‘इंफॉरमेशन मैनेजमेंट: अ प्रपोजल’ सबमिट किया था, जिसके आज हम वर्ल्ड वाइड वेब के नाम से जानते हैं। टिम यूरोपियन सीईआरएन लैब में काम करते थे।

उनके बॉस ने इस प्रपोजल को देखने के बाद कहा था कि अस्पष्ट है लेकिन एक्साइटिंग हैं। टिम को कभी ये नहीं लगा था कि उन्होंने जो प्रपोजल दिया है, वह आने वाले समय में मानव जगत के भविष्य को इस कदर बदल देगा। टिम अपनी नौकरी के दौरान ब्राउजर प्रोग्राम लिखा करते थे। उन्होंने एचटीएमएल, यूआरएल और एचटीटीपी टेक्नोलॉजी के फंडामेंल लिखे थे। 6 अगस्त को 1991 को उन्होंने वर्ल्ड वाइड वेब पर अपना रिसर्च पेपर जम किया था।

ऑफिस के सिस्टम जोड़ने के लिए हुई थी शुरुआत
शुरुआत में टिम एक ऐसे इंफॉर्मेशन सिस्टम को तैयार कर रहे थे जिससे लैब के विभिन्न कम्प्यूटर्स को एक दूसरे से जोड़ा जा सके। टिम का ये प्रपोजल उनके बॉस को पसंद आया। 1991 में पहली बार बाहरी वेब सर्वर पर रन कराया गया। पहली बार साल 1993 अप्रैल में वेब को पब्लिक किया गया।

धीरे-धीरे इंटरनेट की चर्चा फैलने लगी और इसके बाद गूगल, अमेजन जैसी कंपनियों का जन्म हुआ। इंटरनेट की प्रसिद्धी के बाद उस साल ही नवंबर में Mosaic लॉन्च हुआ। ये पहला सर्च इंजन था जो तस्वीरों को एक्सेप्ट करता था। ये वेब इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव था। हालांकि बाद में Mosaic को इंटरनेट एक्सप्लोरर, गूगल क्रोम और मोजिला फायरफॉक्स ने रिप्लेस कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here