मौसम फिर ले सकता है करवट, कई राज्यों में अलर्ट जारी

0
31

नई दिल्ली: मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान ‘सागर’ के संबंध में तमिलनाडु, केरल, कर्नाटक, गोवा, महाराष्ट्र और लक्षद्वीप को आज अलर्ट जारी किया है। चक्रवाती तूफान यमन के अदन शहर से करीब 390 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में और सोकोत्रा द्वीप समूह से 560 किलोमीटर पश्चिमी-उत्तर पश्चिम में अदन की खाड़ी के ऊपर केंद्रित है।

मौसम विभाग की एडवाइजरी में कहा गया है कि अगले 12 घंटों में इसके थोड़ा मजबूत होने और फिर पश्चिमी-दक्षिण पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है।

इसमें कहा गया है कि मछुआरे अगले 48 घंटों के दौरान अदन की खाड़ी और पश्चिमी मध्य और दक्षिण-पश्चिमी अरब सागर के आसपास के क्षेत्रों में न जाएं। 70 से 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहीं तूफानी हवाएं 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पर पहुंच रही हैं। अगले 24 घंटों में इनकी चपेट में अदन की खाड़ी और पश्चिमी मध्य और दक्षिण पश्चिमी अरब सागर के आसपास के क्षेत्रों के आने की संभावना है। उसके बाद धीरे-धीरे यह कमजोर हो जाएगा।

इस दौरान अदन की खाड़ी और पश्चिमी मध्य और दक्षिण पश्चिमी अरब सागर में अगले 24 घंटों में समुद्र में परिस्थितियां प्रतिकूल रहेंगी।

उत्तर भारत में भी तेज आंधी का अलर्ट

बीती रात दिल्ली एनसीआर में फिर तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। इसके बाद आज मौसम विभाग ने दिल्ली, यूपी, हरियाणा, पंजाबा और राजस्थान समेत 20 राज्यों में दो दिन तक तेज आंधी का अलर्ट जारी किया है। आपको बता दें कि बीते 15 दिनों में भारत के कई राज्यो में आए भयंकर तूफान से जानमाल का भारी नुकसान हुआ है।

मौसम विभाग के मुताबिक, गर्मी के मौसम में यह बदलाव होता ही है। लेकिन इस बार पाकिस्तान और अफगानिस्तान के ऊपर वेस्टर्न डिस्टर्बेंस और राजस्थान और मध्यप्रदेश के ऊपर चक्रवाती हालात बनने से मौसम लगातार खराब हो रहा है। मौसम विज्ञान की भाषा में इसे लोकल क्लाउड सेल कहते हैं। कई बार एक से दो घंटे में ही आंधी तूफान का रूप ले लेता है। पूरे उत्तर भारत में ये स्थिति कई राज्यों में बन रही है।

बता दें, उत्तर भारत में पड़ी कम सर्दी की वजह से काफी फर्क पड़ा है। इस साल जनवरी से लेकर मार्च तक पहाड़ों में बर्फबारी कम हुई है। सर्दी कम पड़ने की वजह से अप्रैल मई में तापमान अचानक बढ़ता है। इसके बाद सतह की गर्म हवाएं तेजी से उपर उठकर नम हवाओं के संपर्क में आती है। गर्म और नम हवाओं के संपर्क से स्थानीय स्तर पर मौसम का नया चक्र बनता है। चक्रवाती प्रभाव की वजह से 50 से 100 किमी. के दायरे में आंधी तूफान की स्थिति बनती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here