उत्तराखंड: भारतीय सीमा में 3 बार चीनी सेना की घुसपैठ, 4 किमी तक आए थे अंदर

0
53

देहरादून: एक तरफ भारत सरकार चीन से संबंध सुधारने की कोशिश कर रही है तो दूसरी ओर चीनी सेना भारतीय सीमा के लगातार घुसपैठ कर रही है. ताजा मामला उत्तराखंड के चमोली जिले के बाराहोती का है, जहां अगस्त में चीनी सेना (पीपुल्स लिबरेशन आर्मी) ने भारतीय सीमा में तीन बार घुसपैठ करने की कोशिश की.

सूत्रों को मिली जानकारी के मुताबिक, वास्तविक नियंत्रण रेखा (Line of Actual Control – LAC) के अंदर चीनी सेना की तीन बार मूवमेंट देखी गई. इस दौरान चीनी सैनिक 4 किलोमीटर अंदर तक भारतीय इलाके में घुस गए थे. हालांकि, आईटीबीपी (भारत तिब्बत सीमा पुलिस) ने विरोध के बाद वो वापस लौट गये.

बता दें कि इससे पहले भी चीन सैनिकों ने जुलाई महीने में भारतीय सीमा में घुसपैठ की थी. बाराहोती में 150 से 200 चीन सैनिक भारतीय सीमा में घुस आए थे. आईटीबीपी की अग्रिम चौकी रिमखिम पर तैनात जवानों की गश्त को देखते ही चीनी सैनिकों का दल लौट गया था.

पिछले साल तो चीनी सैनिकों ने 426 बार भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की थी. पिछले साल ही भूटानी भूभाग में स्थित डोकलाम के पास सिक्किम-भूटान-तिब्बत के त्रिकोण पर दोनों देशों की सेनाओं के बीच 73 दिनों तक गतिरोध बना हुआ था.

कब-कब हुई घुसपैठ?

  • एलएसी भारत और चीन के बीच एक 4,057 किलोमीटर की बॉर्डर लाइन है .
  • जून के दूसरे सप्ताह में बाराहाती क्षेत्र में दो चीनी हेलीकॉप्टर देखे गए थे.
  • घटना के बाद प्रशासन का एक दल क्षेत्र का जायजा लेने भी गया था.
  • चीन सैनिकों ने जुलाई महीने में भी भारतीय सीमा में घुसपैठ की थी.
  • इसके बाद 18 जुलाई को प्रशासन का 17 सदस्यीय दल सीमावर्ती क्षेत्र का जायजा लेने रवाना हुआ था.
  • हालांकि, भारी बारिश के कारण रास्ते क्षतिग्रस्त होने से टीम 18 जुलाई को वापस आ गई थी.
  • इससे पहले वर्ष 2014 में भी यहां चीन का विमान देखा गया था.
  • इसके बाद जुलाई 2016 में क्षेत्र के निरीक्षण को गई राजस्व टीम से चीनी सेना का सामना हुआ था. इसकी रिपोर्ट केंद्र
  • सरकार को भी भेजी गई थी.
  • वर्ष 2015 में ये खबर सामने आई थी कि चीनी सैनिकों ने चरवाहों के खाद्यान्न को नष्ट किया.
  • बता दें कि वर्ष में चार बार प्रशासन की टीम बाड़ाहोती का जायजा लेने जाती है.

बेहद संवेदनशील है बाराहोती सीमा
बता दें कि चमोली जिले में जोशीमठ से 105 किलोमीटर दूर भारतीय सीमा चीन से जुड़ी है. यहां सबसे अधिक चीनी सैनिकों की घुसपैठ की आशंका रहती है. इसी लिहाज से ये क्षेत्र बेहद संवेदनशील माना जाता है. इस क्षेत्र में 80 वर्ग किलोमीटर में बाड़ाहोती चारागाह फैला है. यहां स्थानीय चरवाहे अपने मवेशियों को चराने लेकर आते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here