अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने जॉन बोल्टन को बड़ी गलती पर हटाया

0
36
Mandatory Credit: Photo by Evan Vucci/AP/Shutterstock (10358411r) President Donald Trump talks to reporters on the South Lawn of the White House, in Washington, as he prepares to leave Washington for his annual August holiday at his New Jersey golf club Trump, Washington, USA - 09 Aug 2019

नई दिल्ली। ट्वीट कर अपने देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार को हटाने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अब अपने फैसले का बचाव किया है. डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि जॉन बोल्टन ने बतौर ने कई ऐसी गलतियां की हैं, जिसकी वजह से उन्हें हटाना पड़ा. ट्रंप ने ये भी कहा कि वह प्रशासन से अलग हटकर अपनी लीक पर चल रहे थे.

जॉन बोल्टन को किया बर्खास्त
डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार की देर रात जॉन बोल्टन को बर्खास्त कर दिया. ट्रंप ने दो ट्वीट कर उन्हें बर्खास्त किया, जिसके बाद पूरी दुनिया में हलचल मची. वाइट हाउस में बुधवार को जब डोनाल्ड ट्रंप मीडिया से बात करने आए तो उन्होंने अपने फैसले के पीछे के कारण को बताया.
डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जब उन्होंने (जॉन बोल्टन) किम जोंग उन के लिए लीबियन मॉडल की बात की, वह बिल्कुल गलत था. आपको सोचना चाहिए कि तब गद्दाफी के साथ क्या हुआ था, ऐसे में ये बयान बिल्कुल भी ठीक नहीं था. वह मेरे पसंदीदा सहयोगियों में से एक थे, लेकिन उन्होंने कई बड़ी गलतियां की थीं.
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, कि मैं वैसे ही देश चलाऊंगा, जैसे मैं चलाना चाहता हूं,
इसके अलावा डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वेनेजुएला के मामले में भी जॉन बोल्टन ने बड़ी गलती की, वो लीक से हटकर काम कर रहे थे. वो बहुत सख्त व्यक्तित्व वाले हैं, वो भी इतने सख्त कि हमें इराक तक जाना पड़ा. वह उन लोगों से बिल्कुल भी संपर्क नहीं कर पा रहे थे, जिनपर मैं विश्वास करता था. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि मैं वैसे ही देश चलाऊंगा, जैसे मैं चलाना चाहता हूं. एक बार फिर हमें दुनिया में सम्मान मिलने लगा है.
आपको बता दें कि जॉन बोल्टन डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल में तीसरे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार थे, इससे पहले भी दो बार डोनाल्ड ट्रंप ने हटा दिया था. जॉन बोल्टन की नॉर्थ कोरिया, ईरान, रूस जैसे देशों को लेकर काफी सख्त नीति थी.
गौरतलब है कि बीते दिनों ईरान के साथ अमेरिका की परमाणु डील टूट गई, नॉर्थ कोरिया के साथ हो रही बातचीत भी रद्द हो गई, चीन के साथ ट्रेड वॉर चल रही है और दूसरी ओर अफगानिस्तान में भी तालिबान के साथ शांति वार्ता पर ग्रहण लग गया है. ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन की तरफ से इन सभी बातों के लिए जॉन बोल्टन की सख्त नीतियों को जिम्मेदार बताया है