उन्नाव गैंगरेप केस: सीबीआई ने MLA का साथ देने वाले दो उपनिरीक्षकों को किया गिरफ्तार

0
91

नई दिल्ली: उन्नाव में गैंगरेप तथा पीडि़ता के पिता की जेल में हत्या के मामले में गिरफ्तार भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की अप्रत्यक्ष रूप से मदद करने वाले तत्कालीन थानेदार तथा एक दारोगा को कल सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया। उन्नाव में इस हाई प्रोफाइल केस के मामले में निलंबित चल रहे थानेदार अशोक सिंह भदौरिया तथा दारोगा कामता प्रताप सिंह को आज लखनऊ में सीबीआई कोर्ट में पेश किया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि दोनों को आपराधिक साजिश और सबूतों को नष्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

उन्नाव कांड में तत्कालीन माखी एसओ व दारोगा गिरफ्तार, आज सीबीआइ कोर्ट में पेशी

सीबीआई के आईजी जीएन गोस्वामी ने बताया कि अशोक सिंह भदौरिया और कामता प्रताप सिंह को आईपीसी की धारा 120बी, 193, 201, 218 और 3/25 शस्त्र अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है। सीबीआई ने काफी दिनों की छानबीन के बाद कल उन्नाव के माखी थाने के तत्कालीन एसओ अशोक सिंह भदौरिया व उपनिरीक्षक कामता प्रसाद सिंह को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों आरोपितों सहित माखी थाने के 6 पुलिसकर्मियों को एसआइटी की जांच के बाद निलंबित कर दिया गया था।

दोनों की गिरफ्तारी के बाद उम्मीद जताई जा रही है कि उन्नाव जिले के कुछ बड़े अधिकारियों पर भी कार्रवाई हो सकती है। इन दोनों को सीबीआई ने पूछताछ के लिए बुलाया था। इसके बाद गिरफ्तार कर लिया गया। जांच एजेंसी सीबीआई ने दोनों की गिरफ्तारी की जानकारी उन्नाव जिले के आला अधिकारियों को भी नहीं दी थी। पीडि़त महिला का केस दर्ज करने में देरी और उसके पिता के साथ मारपीट मामले में भी दोनों की संलिप्तता सामने आई है। माना जा रहा है कि पूछताछ में दोनों दरोगा उन अधिकारियों के नाम का खुलासा कर सकते हैं, जिनके इशारे पर ऊंची पहुंच के आरोपियों को बचाने की कोशिश की गई।

गौरतलब है कि उन्नाव की एक युवती ने आरोप लगाए थे कि 4 जून 2017 को उसके साथ बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने रेप किया. आरोप है कि शशि सिंह नाम की महिला नौकरी का झांसा देकर युवती को विधायक कुलदीप सेंगर के पास लाई थी जहां उसके साथ रेप किया गया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here