दो अफसरों ने लीक किया बंगला बचाने का ‘मुलायम फ़ॉर्मूला’, दोनों पर होगी कड़ी कार्रवाई

0
65

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद यूपी के 6 पूर्व मुख्यमंत्रियों को सरकारी बंगले खाली करने के लिए नोटिस जारी कर दिया गया है। लेकिन इस बीच एनेक्सी स्थिति मुख्यमंत्री ऑफिस पंचम तल से बंगले बचाने के फ़ॉर्मूले वाला गोपनीय पत्र लीक हो गया। जिसके बाद दो अफसरों पर कार्रवाई की गई है।

मुख्यमंत्री के निजी सचिव पीताम्बरा यादव और मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव के पीए शिशुपाल को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। आरोप है कि दोनों के पास से ही मुलायम सिंह द्वारा मुख्यमंत्री को बंगला बचाने के लिए दिए गए पत्र को लीक किया गया है। जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है।

सीएम से मिलकर मुलायम ने दिया था पत्र

दरअसल, 16 मई को समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री के 5 कालिदास मार्ग स्थित आवास पर मुलाकात कर एक पत्र सौंपा था। जो कि लीक हो गया। पत्र में उनका और बेटे अखिलेश के सरकारी बंगले को बचाने का फ़ॉर्मूला था।

ये था बंगला बचाने का फ़ॉर्मूला

पत्र के माध्यम से मुलायम ने सीएम योगी को एक फ़ॉर्मूला दिया है। जिसके मुताबिक मुख्यमंत्री विधानसभा और विधानपरिषद में नेता प्रतिपक्ष के नाम दोनों बंगले आवंटित कर दें। विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी और विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष अहमद हसन के नाम बंगला आवंटित होने से दोनों के आवास बच सकते हैं।

इस फ़ॉर्मूले से बच सकते हैं सभी के बंगले

अगर मुलायम के फ़ॉर्मूले पर मुख्यमंत्री अमल करते हैं तो एनडीतिवारी को छोड़कर सभी के बंगले बच जाएंगे। दरअसल, राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह विधायक हैं। इस फ़ॉर्मूले के तहत 4 कालिदास मार्ग वाला बंगला उन्हें आवंटित हो सकता है। कल्याण सिंह के पोते भी सांसद और मंत्री हैं, ऊन्हे भी उनका बंगला आवंटित हो जाएगा। रही बात मायावती की तो वे भी नेता प्रतिपक्ष लालजी वर्मा के नाम से बंगला आवंटित करवा सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here