सऊदी अरब : मशहूर पत्रकार की टॉर्चर करने के बाद हत्या, शाही परिवार के थे सख्त आलोचक

0
174

नई दिल्ली : सऊदी अरब के शाही परिवार की प्रखर आलोचना करने वाले एक मशहूर पत्रकार की हत्या करने का दावा किया गया है. तुर्की की पुलिस ने कहा है कि इस्तांबुल में स्थित सऊदी दूतावास में पत्रकार जमाल खाशोज्जी की हत्या की गई है. जमाल ने डर की वजह से देश छोड़ दिया था और अमेरिका में रह रहे थे.

टॉर्चर करने के बाद कर दी हत्या

तुर्की की पुलिस ने कहा है कि पत्रकार को टॉर्चर किया गया और फिर हत्या कर दी गई. इसके बाद उनके शव के टुकड़े किए गए. पुलिस की ओर से अब तक कोई सबूत पेश नहीं किया गया है. वहीं, सऊदी अरब ने आरोपों को झूठ बताया है.

अप्वाइंटमेंट मिलने के बाद कुछ कागजात लेने के लिए वे मंगलवार को इस्तांबुल में सऊदी अरब के दूतावास में गए थे. इसके बाद उनके बारे में कुछ पता नहीं चला. जबकि उनकी गर्लफ्रेंड दूतावास के बाहर उनका इंतजार कर रही थी. जमाल अमेरिका में रहकर वाशिंगटन पोस्ट के लिए लिखा करते थे. दूतावास में तलाक से संबंधित कागजात लेने गए थे और अपनी नई शादी की तैयारी कर रहे थे. उनकी उम्र 59 साल थी.

सऊदी के प्रिंस की नीतियों के आलोचनक थे जमाल

जमाल सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की नीतियों के सख्त आलोचनक रहे हैं. एक पुलिस सूत्र ने मीडिया को बताया है कि दूतावास के अंदर सबकुछ फिल्माया गया और टेप देश के बाहर भेज दिया गया, ताकि साबित किया जा सके कि मिशन पूरा हो गया.

‘खास तौर से इस काम के लिए भेजी गई टीम ने की हत्या’

पुलिस ने कहा कि इससे पहले मंगलवार को दो फ्लाइट से सऊदी अरब के अधिकारियों सहित 15 लोग इस्तांबुल पहुंचे थे. वे उसी वक्त दूतावास में थे, जब जमाल भी वहां थे. तुर्की की पुलिस ने शुरुआती जांच के आधार पर कहा है कि पत्रकार की हत्या खास तौर से इस काम के लिए भेजी गई टीम ने किया. ये लोग उसी दिन सऊदी लौट भी गए.

सऊदी के कौंसुल जनरल मोहम्मद अल ओतैबी ने पुलिस के दावों का खंडन करते हुए है कि जमाल को तलाश करने का प्रयास किया जा रहा है और वे न तो सऊदी अरब में हैं और न ही सऊदी दूतावास में.