4 किलोमीटर कंधे पर ले जाकर घायल माओवादी को जवानों ने अस्पताल में भर्ती कराया

0
46

भुवनेश्वर. मालकानगिरि जिले की सीमा पर नरका गांव के रहने वाला एक कैडर माओवादी भीमा माड़कामी को छत्तीसगढ़ के सुरक्षा जवानों ने कन्धें पर उठाकर 4 किलोमीटर दूर एक अस्पताल में भर्ती कराया है। इसके लिए रास्ते में आने वाले कई नदी नाला को इन जवानों को पार करना पड़ा है। कैडर नक्सल भीमा के सर पर 10 लाख रूपये का पुरस्कार था।
यह घटना ओडिशा छत्तीसगढ़ सीमा पर स्थित नागालुण्डा जंगल की है। यह इलाका छत्तीसगढ़ के सुकुमा व ओडिशा के मालकानगिरि जिले की सीमा में है। दोनों राज्यों के जिला रिजर्व गार्ड(डीआरजी) जवान यहां पर नियमित रूप से कम्बिंग अपरेशन करते रहते हैं। उन्हे रोकने के लिए माओवादी भी हमेशा जवानों के मार्ग पर बारूदी सुरंग बिछाते रहे हैं। सोमवार की रात मंगलवार की सुवह नक्सलियों की ओर से इस तरह का एक बारूदी सुरंग बिछाते वकत फट गया था जिसमें भीमा माड़कामी बुरी तरह घायल हो गया था। लेकिन उसके साथी माओवादी पुलिस की डर से उसे जंगल में छोड़कर भाग गये थे।
उसे देखने के बाद जवानों ने पास के गांव से एक खाट लाकर उसमें भीमा को बैठाया व उसे कन्धे पर उठाकर चार किलोमीटर से अधिक जंगली रास्ता पार कर स्थानीय एक सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया है।