दो दिन से जारी है स्कूल बैग के वजन की जांच

0
53

भुवनेश्वर. पिछले दो दिनों से राजधानी भुवनेश्वर के कई स्कूल में बच्चों की स्कूल बैग का वजन की जांच जारी है। जांच करने के बाद अधिकारियों ने माना है कि बैग का वजन निर्धारित वजन से थोड़ा अधिक भी है। लेकिन स्कूल के अधिकारियों ने कहा है कि वह इसे कम कराने की कोशिश में हैं। लेकिन स्कूल बैग का वजन कम होगा सुनकर बच्चें बहुत खुश है जबकि कुछ का कहना है कि इसी के आड़ में वह जो सब दूसरे सामान (टायज) लाते हैं उसे शायद लाने नहीं दिया जाएगा।
हाल ही में केन्द्र मानव संशाधन विभाग की ओर से पिछले अक्टूबर को छात्र-छात्राओं के स्कूल बैग को एक निधारित वजन के अन्दर रखने की गाइडलाईन जारी की गई थी। इसके लिए ओडिशा हाइकोर्ट की ओर से निर्देश दिये जाने के बाद राज्य सरकार की ओर से जिला स्तर पर स्वार्ड गठन किया गया है। जो कि बुधवार से विभिन्न गैरसरकारी स्कूल में जाकर बैग्स की जांच कर रही है। जिला शिक्षाधिकारी नमिता पटनायक के कहने के मुताबिक उन्होने जितने स्कूल में गये हैं हर जगह उन्हे यह देखने को मिला है कि बच्चें कई ऐसे कितावों को भी बस्ता में भरकर ले आते हैं जिसकी जरूरत उसी दिन नहीं है। यह एक अतिरिक्त बोझ है। हम यह भी देख रहे हैं कि बच्चें एनसीइआरटी व एससीइआरटी के किताव लाते हैं कि नहीं।
पटनायक के मुताबिक जांच के बाद सरकार की ओर से दिशानिर्देश को न मानने वाले स्कूलों को नोटिस होगी। इस बारे में राज्य के स्कूल व जनशिक्षा विभाग के राज्य मन्त्री(स्वतन्त्र प्रभार) समीर दास ने बताया है कि उनका विभाग राज्य के विभिन्न स्कूलों को इसके लिए नोटिस भेजा था। हाइकोर्ट निर्देश के मुताविक खुर्धा जिलाधीश ने जिला शिक्षाधिकारी (डीइओ) को इस पर कार्यबाही करने का निर्देश दे रखे थे। इस समय जांच चल रही है। मन्त्री के मुताबिक यह सिर्फ निजी स्कूलों में नहीं हो रही है सरकारी स्कूलों में भी शिक्षाधिकारी पहुंचकर जांच कर रहे हैं।
दिशा निर्देश के मुताबिक स्कूल बस्ता का वजन कक्षा 1 व 2 में 1.5 किलोग्राम, 3 से 5 तक 3 किलोग्राम, 6 व 7 का 4 किलोग्राम, 8 व 9 को 4.5 किलोग्राम, कक्षा 10 में 5 किलोग्राम से अधिक नहीं होना चाहिये।