बड़े संकट में घिरी RJD, महीने भर से अज्ञातवास पर तेजस्वी यादव!

0
107

नई दिल्ली: बिहार विधानसभा का मॉनसून सत्र 28 जून से शुरू होने जा रहा है. ऐसे में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव कहां हैं, ये सवाल इन दिनों बिहार के सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बना हुआ है. राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं. हालांकि, तेजस्वी की गैरमौजूदगी में आरजेडी के सीनियर नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी और भोला यादव सदन में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका निभाने को तैयार हैं. लेकिन, तेजस्वी की प्रॉक्सी वो नहीं लगा सकते. ऐसे में मॉनसून सत्र से पहले आरजेडी बड़े संकट में घिरती जा रही है.

हालांकि, आरजेडी के अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे तेजस्वी यादव का बचाव किया है. उन्होंने कहा, ‘तेजस्वी यादव ने लोकसभा चुनाव में जी-तोड़ मेहनत की है. अब वो छुट्टी पर हैं. उनकी गैरमौजूदगी में पूरी पार्टी एक्टिव है. भला मीडिया उनके ‘लापता’ होने का सवाल क्यों उठा रहा है.’ पार्टी के अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे उम्मीद करते हैं कि तेजस्वी यादव विधानसभा का मॉनसून सत्र शुरू होने से पहले तेजस्वी यादव जरूर पटना लौट आएंगे.

वहीं, आरजेडी के एक अन्य नेता ने बताया, ‘हम उम्मीद करते हैं कि तेजस्वी यादव मॉनसून सत्र में अपनी जिम्मेदारी संभाल लेंगे. अगर वो ऐसा नहीं करते हैं, तो निश्चित रूप से ये पार्टी के लिए बड़ी चिंता का विषय है.’

लालू ने दी घर लौटने कि हिदायद
तेजस्वी करीब एक महीने से पटना से बाहर हैं. इस बीच उन्होंने अपने घर पर इफ़्तार हो या मुज़फ़्फ़रपुर में बच्चों की मौत सबसे खुद को दूर रखा है. आरजेडी सूत्रों की मानें तो पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव ने फ़ोन कर उन्हें पटना वापस जाने की सलाह दी है. लेकिन अभी तक इसका कोई असर होता नहीं दिखाई दे रहा है. सबसे ज़्यादा तनाव में पार्टी के विधायक नज़र आ रहे हैं. उनका कहना है कि लोकसभा चुनाव के रिजल्ट के आने के बाद तेजस्वी के रुख की वजह से पार्टी जितना हताश और निराश है, उतना तो 2010 के विधानसभा चुनाव हारने के बाद भी नहीं हुई थी.

पार्टी में बेचैनी

पार्टी के कुछ सीनियर नेता भी मानते हैं कि अगर यही हालात रहे, तो आने वाले कुछ समय में विधायक अपने क्षेत्र के समीकरण के अनुसार यह जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) या बीजेपी में जाने की प्रक्रिया शुरू कर देंगे. वहीं, पार्टी के कुछ लालू यादव के करीबियों का कहना है कि तेजस्वी का जो अभी तक का बर्ताव रहा है, वो समझ से परे है.

मुजफ्फरपुर में लगे गुमशुदगी के पोस्टर
पिछले हफ्ते तेजस्वी यादव की गुमशुदगी को लेकर मुजफ्फरपुर में पोस्टर लगाए गए थे. उनका पता बताने या ढूंढकर लाने वाले के लिए 5100 रुपये का इनाम भी रखा गया था.

23 मई को लोकसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही तेजस्वी यादव गायब हैं. मई 28 को हार की समीक्षा के लिए बुलाई गई आरजेडी की मीटिंग में भी वह नहीं पहुंचे. इसी मीटिंग में जगदानंद सिंह के नेतृत्व में बनी तीन सदस्यीय कमिटी ने तेजस्वी की गैरहाजिरी को लेकर रिपोर्ट सौंपने की फैसला लिया.

बहरहाल, पार्टी के नेता अब विधानसभा के मॉनसून सत्र पर फोकस कर रहे हैं. इसके लिए तेजस्वी यादव का बेसब्री से इंतजार हो रहा है.