प्रियंका गांधी को मिल सकती है बड़ी जिम्मेदारी, बन सकती हैं यूपी की प्रभारी

0
57

पूर्वी उत्तर प्रदेश की कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाधी को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रियंका गांधी को उत्तर प्रदेश कांग्रेस का प्रभारी बनाए जाने की घोषणा की जा सकती है। बताया जा रहा है कि प्रदेश स्तरीय कांग्रेस नेताओं के साथ बैठक के बाद इसपर फैसला लिया जा सकता है। कुछ दिनों के भीतर ही एक नई प्रदेश अध्यक्ष कमेटी का गठन और गठन की प्रक्रिया घोषित कर दी जाएगी।

यूपी की प्रभारी बनाई जा सकती हैं प्रियंका

मिली जानकारी के मुताबिक, नई प्रदेश कांग्रेस कमेटी में हर व्यक्ति की अपनी जिम्मेदारी होगी और उसकी जवाबदेही तय की जाएगी। जल्द ही पूर्वी उत्तर प्रदेश की नई जिला कमेटियों की घोषणा की जा सकती है। संगठन की ओवरहॉलिंग की यही प्रक्रिया पश्चिमी यूपी में भी शुरू कर दी गई है। बताया जा रहा है कि एआईसीसी सचिवों की टीम इस काम में लगी हुई है।

यूपी में बड़े बदलाव के मूड में कांग्रेस

लोकसभा चुनाव के दौरान प्रियंका गांधी को पूर्वी यूपी की कमान सौंपी गई थी जबकि पश्चिमी यूपी की कमान ज्योतिरादित्य सिंधिया को सौंपी गई थी। लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद कांग्रेस की उत्तर प्रदेश की सभी जिला समितियां भंग कर दी गई थीं। इसके बाद से ही पार्टी में बदलाव की कवायद चल रही है। लगभग तीन महीने के बाद अब इसे जल्द ही अंतिम रूप दिया जा सकता है। मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, इस बार प्रदेश कांग्रेस कमेटी को छोटा रखा जाएगा और पहले के मुकाबले काफी कम सदस्य भी होंगे।

आगामी यूपी चुनाव पर कांग्रेस की नजरें

पिछले तीन महीनों में प्रियंका गांधी ने कई बैठकें की हैं और वे प्रदेश के करीब 11 हजार कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर चुकी हैं। प्रियंका गांधी प्रदेश के सभी पूर्व अध्यक्षों, पूर्व नेता विधानमंडल, पूर्व सांसदों, पूर्व विधायकों और पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से मिल चुकी हैं। इस मुलाकात के दौरान कई वरिष्ठ नेताओं ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी को छोटा करने और युवाओं को अधिक मौका देने के साथ-साथ मेहनती कार्यकर्ताओं को आगे लाने की बात कही। उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस को अभी बहुत मेहनत करनी है। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को एक सीट से संतोष करना पड़ा था। यहां तक कि इस चुनाव में राहुल गांधी भी अमेटी की अपनी परंपरागत सीट गंवा बैठे थे।