सात दिन में बरगढ़ के चार किसानों को लील गया ब्राउन प्लांट हॉपर

.

Samajalive.in Bureau | Published On: Nov 01, 2017 03:05 PM IST |   117

भुवनेश्वर। पश्चिम ओडिशा के बरगढ़ में बुधवार को कालापानी पंचायत के किसान बृंदा साहू ने जहर खाकर जान दे दी। इस प्रकारते सात दिन के भीतर यह चौथी मौत है। कृषि मंत्री दामोदर राउत ने मुख्य सचिव आदित्य पाढ़ी और विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक करके हालात का जायजा लिया। कृषि मंत्री ने 48 घंटे के भीतर जिला प्रशासन से आत्महत्या की घटनाओं पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने कृषि सचिव से जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा है। मरने वाले किसानों में इंद्र धरैया, मालमुंडा गांव (25 अक्तू.), जगदीश बुढै, गांव पाइकमाल जनगढ़(26 अक्तू.) अक्षय धरै, गांव तोरा (30 अक्त) बृंदा साहू गांव कालापानी (1नवंबर) हैं।

आत्महत्या की वजह बीपीएच यानी ब्राउन प्लांट हूपर कीट है जो भारी मात्रा फैलकर किसानों की फसल सफाचट किये जा रहा है। इसके प्रजनन का यही अनुकूल मौसम होता है। कीट बढ़ने न पाए इसके लिए किसान रोज 10 से 15 एकड़ फसल जला रहे हैं। कर्ज में डूबे किसान सूखे के बाद कीट की मार से अपनी जिंदगी गवां रहे हैं।

 

एक तो सूखा ऊपर से उसकी धान की फसल एक अनजान कीट खाये जा रहा था जिसे मारने की कोई प्रभावी दवा नहीं है। पुराने पेस्टीसाइड्स बेअसर हो चुके हैं। यह कीट अन्य जिलों में भी फैलता जा रहा है। पश्चिम ओडिशा के बाकी जिले भी चपेट में आ सकते हैं। एक अनुमान के अनुसार रोजाना 10 से 15 एकड़ धान की फसल कीट चाटे जा रहा है। कालापानी गाम पंचायत के 10 से 12 किसानों ने अपने खेतों में आग लगा चुके हैं। किसान इस कीट की पहचान कर चुके हैं। धान की फसलों में यह साफ देखा जा सकता है। किसानों का आरोप है कि पेस्टीसाइड प्रभावी क्यों नहीं हो रहा है, यह चिंता का विषय है। 

Tags:

Like Us

ब्रेकिंग न्यूज

बिहार में आज 588 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बना रिकार्ड बनाएगी बिहार सरकार आगरा-दिल्ली रेलमार्ग पर डीरेल हुई गोंडवाना एक्सप्रेस, बड़ा हादसा होने से बचा 26/11 की तर्ज पर काबुल में हमला, 15 की मौत दर्जनों घायल दिल्ली की पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग, 17 कि मौत, 23 लापता