क्या कहते हैं न्यायिक क्षेत्र के दिग्गज

.

Samajalive.in Bureau | Published On: Jan 12, 2018 07:57 PM IST |   71

नई दिल्ली। रिटायर्ड जज आरएस सोढ़ी ने कहा कि जजों का मीडिया से रूबरू होने का मामला कोई ज्यादा मायने नहीं रखता। उनकी शिकायत प्रशासनिक मामलों को लेकर है। वे 4 हैं। उनके अलावा 23 और हैं। ये 4 मिलकर चीफ जस्टिस की गलत छवि बना रहे हैं। ये अपरिपक्व और बचकाना है। उन्होंने आगे कहा कि उन्हें ऐसा लगता है कि इन चारों पर अभियोग लगाया जाना चाहिए। उन्हें अब बैठकर फैसले देने का कोई अधिकार नहीं है। यह ट्रेड यूनियननुमा व्यवहार गलत है। लोकतंत्र पर खतरा उनके बताने की बात नहीं है, हमारे यहां संसद, कोर्ट और पुलिस काम कर रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट में वकील प्रशांत भूषण का मानना है कि यह गंभीर मामला है।  उन्होंने कहा, ये बहुत गंभीर मामला है, जिससे चीफ जस्टिस की छवि पर सवाल उठते हैं। इन जजों का ऐसे सामने आना अप्रत्याशित है। राज्यसभा सांसद और भाजपा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी में भी जजों के इस तरह मीडिया के सामने आने पर प्रधानमंत्री के संज्ञान लेने की बात कही है। वहीं वरिष्ठ अधिवक्ता और कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने भी इन जजों के इस तरह मीडिया के सामने आने पर दुख जाहिर किया है। उन्होंने कहा, मैं बेहद दुखी हूं। साथ ही मैं उस पीड़ा को भी महसूस कर सकता हूं कि देश की सबसे बड़ी अदालत पर इतना दबाव हो कि जिसके चलते जजों को यूं मीडिया के सामने आना पड़े।

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता केटीएस तुलसी ने जजों के इस कदम को चौंकाने वाला बताया। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई न कोई वजह जरूर रही होगी जिसके चलते इतने वरिष्ठ जजों ने यह कदम उठाया। वरिष्ठ वकील उज्ज्वल निकष ने इसे न्यायपालिका के लिए काला दिन बताया है। उन्होंने कहा कि आज की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस एक गलत मिसाल कायम करेगी। अब से हर आम आदमी सभी न्यायिक आदेशों को संदेह की नजर से देखेगा। हर फैसले पर सवाल उठेंगे।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज पीबी सावंत ने भी जजों के मीडिया से रूबरू होने को गंभीर बताया है। उन्होंने कहा कि जजों को मीडिया के सामने आकर ऐसा अप्रत्याशित कदम लेना पड़ा। इसका अर्थ यही है कि बात गंभीर है,  या तो चीफ जस्टिस से जुड़ा या कोई आंतरिक मामला है। जजों के इस कदम के तार सीबीआई जज लोया की मौत की जांच से जुड़े केस से भी जोड़े जा रहे हैं।  हाईकोर्ट के पूर्व जज मुकुल मुद्गल ने जजों की मीडिया कॉन्‍फ्रेंस को गंभीर तो माना लेकिन इस पर कुछ साफ तरह से कहने को मना कर दिया। (एजेंसी)

 

Tags:

Like Us

ब्रेकिंग न्यूज

आगरा-दिल्ली रेलमार्ग पर डीरेल हुई गोंडवाना एक्सप्रेस, बड़ा हादसा होने से बचा 26/11 की तर्ज पर काबुल में हमला, 15 की मौत दर्जनों घायल दिल्ली की पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग, 17 कि मौत, 23 लापता 2025 तक एक लाख करोड़ का निर्यात करेगा ओडिशा।