अब पासपोर्ट, एड्रेस प्रूफ के तौर पर नहीं होगा इस्तेमाल

मोदी सरकार कर सकती है बड़े बदलाव

ARPITA KATIYAR | Published On: Jan 12, 2018 07:43 PM IST | Updated On: Jan 12, 2018 07:43 PM IST |   101

नई दिल्‍ली।

जल्‍द ही आपका पासपोर्ट आपके ऐड्रेस प्रूफ के रूप में काम नहीं आएगा. विदेश मंत्रालय की घोषणा के अनुसार अब पासपोर्ट का आखिरी पन्‍ना प्रिंट नहीं किया जाएगा. भारतीय पासपोर्ट के आखिरी पन्‍ने पर नाम, पिता या कानूनी अभिभावक का नाम, माता का नाम, पत्‍नी का नाम और पता छपा होता है. य‍ह निर्णय विदेश मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा गठित तीन सदस्‍यीय समिति की रिपोर्ट के बाद लिया गया है. समिति ने उन बातों की समीक्षा की जिनमें कहा गया था कि क्‍या पासपोर्ट में से पिता का नाम हटाया जा सकता है.

तीन सदस्यीय समिति का फैसला

विदेश मंत्रालय और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की तीन सदस्यीय समिति की रिपोर्ट के बात यह फैसला लिया गया है। मंत्रालय की यह समिति पासपोर्ट में पिता के नाम को हटाए जाने के मांगों की जांच कर रही थी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि रिपोर्ट को मंजूरी मिल गई है। नए पासपोर्ट में आखिरी पन्ना खाली रहेगा। यह जानकारी विदेश मंत्रालय के पास रहेगी इसलिए इसका सरकार पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।

पासपोर्ट के रंगो में भी हो सकता है बदलाव

इतना ही नहीं, मंत्रालय पासपोर्ट के रंग में भी बदलाव कर सकता है। रेग्युलर पासपोर्ट का कवर अभी तक नेवी ब्लू कलर का है। ये सामान्य यात्रा के लिए जारी किए जाते हैं, जिसमें छुट्टियां और कारोबार से संबंधी दौरे शामिल होते हैं। वहीं, डिप्लोमैटिक पासपोर्ट का कवर मैरून रंग का होता है। यह भारतीय राजनयिकों और शीर्ष सरकारी अधिकारियों को दिया जाता है। जबकि, ऑफिशियल पासपोर्ट का कवर सफेद होता है और उन लोगों को मिलता है, जो आधिकारिक काम-काज के दौरान भारत सरकार का प्रतिनिधित्व करते हैं।

नारंगी रंग के कवर वाले पासपोर्ट जारी करने का प्लान

रेग्युलर पासपोर्ट होल्डर्स दो श्रेणियों में आते हैं। एक वह, जिन्हें इमिग्रेशन चेक (ईसीआर) की जरूरत होती है। दूसरे वह जिनके लिए यह अनिवार्य नहीं (ईसीएनआर) होता। फिलहाल मंत्रालय ईसीआर श्रेणी में आने वाले लोगों को नारंगी (ऑरेंज) रंग के कवर वाले पासपोर्ट जारी करने के बारे में सोच रहा है। लेकिन पासपोर्ट कैसा होगा, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

Like Us

ब्रेकिंग न्यूज

आगरा-दिल्ली रेलमार्ग पर डीरेल हुई गोंडवाना एक्सप्रेस, बड़ा हादसा होने से बचा 26/11 की तर्ज पर काबुल में हमला, 15 की मौत दर्जनों घायल दिल्ली की पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग, 17 कि मौत, 23 लापता 2025 तक एक लाख करोड़ का निर्यात करेगा ओडिशा।