सुषमा ने फिर दिखाई दरियादिली, एक मां कि यूं की मदद

कुआलालंपुर एयरपोर्ट पर बेटे के शव के साथ फंसी थी मां

ARPITA KATIYAR | Published On: Jan 12, 2018 02:59 PM IST | Updated On: Jan 12, 2018 02:59 PM IST |   63

नई दिल्ली।

अपने देश के बाहर फंसे लोगों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहने वाली भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज फिर से एक बेबस मां की मदद की है। गौरतलब है कि उन्होंने अब तक बस ट्वीट के माध्यम से ही जाने कितनों की सहायता कर डाली है। उनकी इसी तत्परता की वजह से मुश्किल में फंसे देशवासी दुनिया के किसी भी कोने से उनसे बेहिचक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मदद की गुहार करते हैं जिसका हल भी उन्हें मिल जाता है। हाल ही में विदेश मंत्री कुआलालंपुर एयरपोर्ट पर बेटे के शव के साथ फंसी थी मां।

ट्वीट के जरिए सुषमा को मिली जानकारी

ऑस्ट्रेलिया से भारत आ रही महिला के साथ उसका बेटा भी हवाई सफर कर रहा था। लेकिन कुआलालंपुर हवाई अड्डे पर अचानक उसकी मौत हो गई। इसके बाद मां इस दुखद परिस्थिति में फंस गई। तभी एक नेटिजेन ने ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को दी। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए सुषमा स्वराज ने तुरंत कार्रवाई की और अब मां अपने बेटे के शव को भारत ला सकेगी।

सुषमा ने दिया था मदद का भरोसा

रमेश के इस ट्वीट पर सुषमा स्वराज ने उनके दोस्त की मौत पर शोक जताया और कुआलालंपुर में इंडियन हाईकमीशन से पूरी मदद दिए जाने का भरोसा दिलाया। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि उनके दोस्त की बॉडी सरकार के खर्च पर भारत लाई जाएगी। सुषमा ने अपने दूसरे ट्वीट में लिखा, "इंडियन हाई कमीशन के अफसर मां और उनके दिवंगत बेटे के साथ हैं। वे मलेशिया से चेन्नई पहुंच रहे हैं। शोक संतप्त परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं।"

विदेश मामलों में भारतीयों की मदद के लिए मशहूर हैं सुषमा

यह पहला मौका नहीं है, सुषमा स्वराज ने मुसीबत में फंसे किसी भारतीय की मदद की हो। हाल ही में राजस्थान की भानुप्रिया हरितवाल के अमेरिका जाने के सपने को पूरा किया था। उन्हें कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप मिली थी, लेकिन अमेरिकन एंबेसी से वीजा ना मिलने की वजह से उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। हालांकि, सुषमा स्वराज की पहल के बाद वीजा जारी किया गया।

Like Us

ब्रेकिंग न्यूज

बिहार में आज 588 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बना रिकार्ड बनाएगी बिहार सरकार आगरा-दिल्ली रेलमार्ग पर डीरेल हुई गोंडवाना एक्सप्रेस, बड़ा हादसा होने से बचा 26/11 की तर्ज पर काबुल में हमला, 15 की मौत दर्जनों घायल दिल्ली की पटाखा फैक्ट्री में भीषण आग, 17 कि मौत, 23 लापता