नोएडा में PM ने किया ब्लू लाइन विस्तार का उद्घाटन, कहा- जेवर में बन रहा देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट

0
92

नोएडा: लोकसभा चुनाव की घोषणा से पहले प्रधानमंत्री मोदी के ताबड़तोड़ दौरे जारी हैं और इसी कड़ी में प्रधानमंत्री मोदी नोएडा पहुंचे। यहां उन्होंने ब्लू लाइन मेट्रो के विस्तार का लोकार्पण किया। इसके अलावा उन्होंने पं. दीनदयाल उपाध्याय आर्कियोलॉजी संस्थान के अलावा कई परियोजनाओं शिलान्यास भी किया। इसके बाद प्रधानमंत्री ने यहां एक सभा को भी संबोधित किया।

अपने संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने जहा कांग्रेस की यूपीए सरकार पर निशाना साधा वहीं अपनी सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों को भी गिनाया। उन्होंने कहा कि आप यहा मोदी-मोदी कर रहे हैं और वहां लोगों की नींद हराम हो रही है। कभी नोएडा की पहचान सरकारी धन की लूट, अथॉरिटी और टेंडर में होने वाले नए नए खेल और जमीन घोटालों की वजह से बनी खबरों के कारण होती थी। आज नोएडा और ग्रेटर नोएडा की पहचान विकास की परियोजनाओं से है।

पीएम आगे बोले कि, 2014 से पहले मोबाइल फोन बनाने वाली सिर्फ 2 फैक्ट्रियां थी। आज करीब सवा सौ फैक्ट्रियां देश में मोबाइल बना रही हैं। इसमें से बड़ी संख्या में फैक्ट्रियां नोएडा में हैं।

पीएम मोदी ने आगे कहा कि यहां की कनेक्टिविटी को और सुधारने के लिए जेवर में देश का सबसे बड़ा हवाई अड्डा बनने जा रहा है। इससे जुडी सभी प्रक्रियाओं को तेजी से पूरा किया जा रहा है। जेवर एयरपोर्ट पश्चिमी उत्तर प्रदेश के लिए एक स्वर्णिम अवसर लेकर आएगा। अब अगले कुछ हफ्तों में उड़ान योजना के तहत जल्द बरेली से भी उड़ानें शुरू हो जाएंगी। ‘उड़े देश का आम नागरिक’ इस लक्ष्य के साथ अब तक 120 रूटों को शुरू किया जा चुका है

प्रधानमंत्री बोले कि, आज दो और बड़े पावर प्लांट्स का शिलान्यास यहां से किया गया है। एक प्लांट यूपी के ही बुलंदशहर के खुर्जा में लग रहा है और दूसरा बिहार के बक्सर में। हमारी सरकार 21वीं सदी में देश की ऊर्जा जरूरतों को ध्यान रखते हुए अनेक क्षेत्रों में काम कर रही है। पहले की सरकारों ने पावर सेक्टर और देश की ऊर्जा जरूरतों को नजरअंदाज किया था।

पीएम ने कहा कि, कल कानपुर में पनकी पावर प्रोजेक्ट के विस्तार का काम आरंभ हुआ है। आप ये जानकर हैरान रह जाएंगे कि पनकी प्रोजेक्ट में 40-40, 50-50 साल पुरानी हो चुकी मशीनों से ही काम लिया जा रहा था। नतीजा ये था कि जो बिजली वहां बन भी रही थी, उसकी कीमत आ रही थी 10 रुपए प्रति यूनिट। पहले की सरकारों के इसी रवैये ने देश के पावर सेक्टर को खस्ताहाल कर दिया था।

उन्होंने आगे कहा देश के लोग वो दिन नहीं भूल सकते, जब टीवी चैनलों पर ब्रेकिंग न्यूज चला करती थी कि पावर प्लांट्स में एक दिन-दो दिन का ही कोयला बचा है। देश के पावर सेक्टर को सुधारने के लिए इसलिए हमारी सरकार ने नई अप्रोच के साथ, नई नीतियों के साथ काम किया।