भारतीय राष्ट्रपति के प्लेन के लिए पाकिस्तान नहीं खोलेगा अपना एयरस्पेस

0
43
RPT WITH CAPTION CORRECTION (Corrects day)...New Delhi: President Ram Nath Kovind addresses the National Geoscience Awards- 2017 in New Delhi on Wednesday. (PTI Photo / Vijay Verma)(PTI5_16_2018_000031B)

 

इस्लामाबादः पाकिस्तान एक तरफ तो जीवनरक्षक दवाओं के लिए भारत से गिड़गिड़ा रहा है, लेकिन दूसरी तरफ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को आइसलैंड जाने के लिए अपने एयरस्पेस के इस्तेमाल की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने शनिवार को बताया कि भारत ने राष्ट्रपति कोविंद की आइसलैंड की फ्लाइट के लिए अनुमति मांगा था, जिसे पाकिस्तान ने नामंजूर कर दिया। बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सोमवार से 17 सितंबर तक के लिए आइसलैंड, स्विटजरलैंड और स्लोवेनिया की यात्रा पर जाने वाले हैं।

एयरस्ट्राइक के बाद पाक ने बंद किया था एयरस्पेस
पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सरकारी टीवी चैनल पीटीवी से बताया कि भारत के राष्ट्रपति को पाकिस्तानी एयरस्पेस के इस्तेमाल की इजाजत न दिए जाने के फैसले पर प्रधानमंत्री इमरान खान ने सहमति दी है। उन्होंने बताया कि कश्मीर के तनावपूर्ण हालात की वजह से यह फैसला लिया गया है। बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े आतंकी कैंप पर इंडियन एयरफोर्स की कार्रवाई के बाद से पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस को पूरी तरह बंद कर दिया था। हालांकि, मार्च में उसने आंशिक तौर पर अपने एयरस्पेस को खोला था लेकिन भारतीय उड़ानों पर प्रतिबंध जारी रखा।

आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया की यात्रा पर जाएंगे राष्ट्रपति

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अगले हफ्ते सोमवार को आइसलैंड, स्विट्जरलैंड और स्लोवेनिया की यात्रा पर रवाना होंगे। वह अपनी यात्रा के दौरान इन देशों के साथ आर्थिक और राजनीतिक संबंधों को मजबूत करने पर चर्चा करेंगे। विदेश मंत्रालय में सचिव (पश्चिमी देशों के) गीतेश शर्मा ने बताया कि राष्ट्रपति कोविंद 9 सितंबर से 17 सितंबर तक इन देशों के शीर्ष नेतृत्व के साथ चर्चा करेंगे और इस दौरान समुद्री अर्थव्यवस्था, विज्ञान एवं तकनीक, पर्यटन और जलवायु क्षेत्र में आपसी सहयोग के मुद्दे शीर्ष पर होंगे। उन्होंने बताया कि राष्ट्रपति के साथ बड़ी संख्या में कारोबारियों का एक प्रतिनिधिमंडल भी यात्रा करेगा। स्लोवानिया में यह किसी भी भारतीय राष्ट्रपति की पहली यात्रा होगी।